रिश्तेदार - Krishan kumar

रिश्तेदार     Krishan kumar     ग़ज़ल     दुःखद     2022-08-14 17:09:32         30978           

रिश्तेदार

आधे से ज्यादा रिश्तेदार धोखेबाज होते
है,
चहरे पर उनके नकाब होते है,
मुसीबत मैं ही रिश्तेदारों के पहचान
होते है

Related Articles

Writer by Iqrar Ali (आई क्यू) इंसाफ शायरी
Iqrar Ali (आई क्यों )
इंसाफ करने वाले को तो लोगों ने खरीद रखा है,शाहब क्योंकि सच को साबित करने के लिए झूठ बोलना पड़ता है
249
Date:
14-08-2022
Time:
13:56
वे मासूम बच्चें
Chanchal chauhan
वे मासूम बच्चें, जिनके पास मां का आंचल, पिता का साया नहीं होता, कैसे काटते हैं वो रात- दिन, वेसहारा होते हैं वे बच्चे
5489
Date:
14-08-2022
Time:
16:52
जिंदगी के सफर में बड़े ही धक्के हैं
Chanchal chauhan
जिंदगी के सफर में बड़े ही धक्के हैं, लग जाती हैं ठोकर,ये किस्मत लिखे पक्के हैं,सब सहकर जीना पड़ता हैं, यही तो जीवन के
3078
Date:
14-08-2022
Time:
13:39
Please login your account to post comment here!