Vakat ka sitam - Rekha Gill

Vakat ka sitam     Rekha Gill     ग़ज़ल     प्यार-महोब्बत     2021-09-22 10:38:57     Mohabbat     102514        
Vakat ka sitam

Dil mein jazbaaton ke hua tufan bhi nahin Rahe
Pahle se hasin mere mehman bhi nahin Rahe❤️
Ye waqt Na jaane Kahan Le ja Raha hai mujhe
Shahar mein is tehzeeb ke kadardaan bhi  nahin Rahe❤️
Shauk jagah hai tabiyat mein gule afshani ka
Magar mere aangan mein gulistaan bhi nahin Rahe❤️
Umre nadan nikal gayi alvida keh kar mujhe
Mujpe Marne wale mere meherban ki nahin Rahe❤️
Waqt unki yadon ke sahare bhi katata nahin
Kyon hai jinda Ham Jo dilbar jaan bhi nahin Rahe.❤️
Rekha Gill Haryana

Related Articles

इन्तजार
इन्तजार

सुना है मेरे चाहने वालों की बहुत लम्बी कतार है तुम्हें आने में देर ना हो जाए मौत को भी मेरा इंतजार है

प्यार की चोट वही महसूस करता है
प्यार की चोट वही महसूस करता है

प्यार की चोट महसूस वो ही करता है,जिसे किसी से सच्चा प्यार होता है,वरना तो लैला-मजनूं पर ये जमाना पत्थर ही मारता है।

शिक्षा ज्ञान (शिक्षक दिवस)
शिक्षा ज्ञान (शिक्षक दिवस)

मेरे मन_मन्दिर में बसे हैं, मेरे शिक्षक, इनको नित्य नमण है। शिक्षक हैं तो सब कुछ है, शिक्षक के बिना सब बेकार है। शिक


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group