पंडित लख़्मीचंद - Sombir Sharma

पंडित लख़्मीचंद     Sombir Sharma     आलेख     साहित्य लाइव सूचनाएँ     2021-09-22 11:48:46     पंडित लख़्मीचंद     16524        
पंडित लख़्मीचंद

जीते जी का मेल जगत में, मरे पे किसका दावा होवे सै
बात बीत जा, गए बखत का के पछतावा हो सै- पंडित लख़्मीचंद

Related Articles

जिस्म थे,नुमाइश थी,दिखावट थी सब ओर
जिस्म थे,नुमाइश थी,दिखावट थी सब ओर

जिस्म थे नुमाइश थी दिखावट थी सब ओर असल चीज गायब थी बनावट थी सब और खानदान ही खानदान के खून का प्यासा था रोजी रोटी के

ibaadaton ki duniya me khoya ho jaise
ibaadaton ki duniya me khoya ho jaise

इबादतों की दुनियाँ मे खोया हो जैसे वो सोया था ऐसे फरिश्ता सोया हो जैसे उसके पत्तों से शबनम ऐसे झड़ती थी रात भर वो

Khushiyo ka gar
Khushiyo ka gar

Main aur vo mil jate Fool gulshan ke khil jate Mahak uthti sari kaynath Kash tum jo mujhsme gum ho jate Meri ankho me tera chahera hota Khushiyo se sja humra gar hota Jo main aur vo mil jate Fool Chaman me khil jate


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group