साहित्य लाइव का धन्यवाद - Chanchal chauhan

साहित्य लाइव का धन्यवाद     Chanchal chauhan     महत्वपूर्ण सूचनाएँ     साहित्य लाइव सूचनाएँ     2021-09-22 10:41:31     साहित्य लाइव टीम का तह दिल से धन्यवाद     22632        
साहित्य लाइव का धन्यवाद

चलाकर साहित्य लाइव का चक्र,
सब रचनाकार को एक गूंथी में बांध रखा है,उनके भविष्य का विकास करने के लिए  योजना का प्रचार कर रखा हैं, साहित्य हिन्दी को सुरक्षित रखने के लिए, साहित्य लाइव चला रखा हैं,
मात् भाषा हैं हिन्दी उसका मान बढ़ा रखा , लेखकों के लिए जो मंच बनाया सलाम हैं आपको,उनके जीवन को एक लक्ष्य दे रखा हैं,
रचनाकारों के भावों को ऊंचाई पर बिठा रखा हैं, धन्यवाद हैं आपका अपनी इंसानियत को जिंदा रखे रखा हैं,अपने उन नये रचनाकार के बारे में सोचा सिर्फ डायरी भरा करते थे,आपने निकालकर दुनिया के कोने-कोने में पहुंचा दिया,आपका तह दिल से धन्यवाद, शुक्रिया,

Related Articles

जिक्र - मैं भी कुछ कहूँ
जिक्र - मैं भी कुछ कहूँ

मैं भी कुछ कहूँ लिख दूँ किताब तेरें नाम की और हर पन्ने पर जिक्र तेरा करूँ।

"शहर हूँ मैं" - युवाओं की भीड हूँ मैं,
"शहर हूँ मैं" - युवाओं की भीड हूँ मैं,

युवाओं की भीड हूँ मैं, पश्चिमी संस्कृति का शोर हूँ मैं प्रदूषण का कहर हूँ मैं, शहर हूँ मैं । भीड़- भाड से भरा हूँ मैं,

मैं फिलीस्तीन हूँ सियासत मे जलता हूँ
मैं फिलीस्तीन हूँ सियासत मे जलता हूँ

जालिमों की हिरासत मे जलता हूँ अपने घर,अपनी रियासत मे जलता हूँ तुम मुझे पहचानते हो ऐ दुनियाँ जहाँ वालो मैं फिलीस्त


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group