चुनाव आ गया - ajay kumar suraj

चुनाव आ गया     ajay kumar suraj     महत्वपूर्ण सूचनाएँ     हास्य-व्यंग     2021-09-22 11:22:23     चुनाव chunav     25777        
चुनाव आ गया

चुनाव आ गया
 
निगाहे प्यार के रंग में सराबोर है |
कोई गरीब न हो जमाने से मारा संग खड़े बड़जोर है||
जागते में देखा है मैंने, स्वप्न सी एक दुनिया|
हर जगह दिख रही है राम राज्य की खूबियाँ ||
तभी जगाया ओटर ने मुझे झकझोर कर उठो चुनाव आ गया ||
 
जो कभी जीतने के बाद सितम में सितमगर बने थे|
लूट कर जनता को जनता जनार्दन से बाजीगर बने थे ||
कभी भी न देखने आये हालात,घर कैसे पकती है रोटियाँ|
क्या हुआ है उस परिवार में क्यों खनकती नही चूड़ियाँ ||
आज बोलते है तुम डरो मत पहरेदार आ गया,मेरे भाई चुनाव आ गया||

निठल्ला घूमता था सड़को पर लोग आवारा कहने लगे |
था न रोजगार ,हालत थे बुरे लोग गवारा कहने लगे ||
सोचा आ जाए कोई विज्ञप्ति धरना देने लगे |
मांग की अधिकार की पुलिस की लाठिया खाने लगे ||
मिला पारीश्रमिक भर्तियो का रेला आ गया ,तब तक चुनाव आ गया ||

मजदूर थे,गरीब थे,बेगार थे तो सडको को ही आशियाना बना लिया |
भूख से पीड़ित जग ने कितनी बालाओं के पाओं में घुंघरू पहना दिया||
दम तोड़ते भारत के कितने कर्णधार अस्पतालों को शमसान बना दिया |
भूल गए सदियों जो गाँधी को, आज फिर उनका सिद्धांत याद आ गया||
चोले बदल गए है तन से ,शायद चुनाव आ गया ||

सोचो तुम भी कितने दुःख दर्द वर्षो से सहते आये हो |
न हो ऐसी दीन दशा प्रहरी बन जन तुम आये हो||
जमीर जगाना अपना तुम लोकतंत्र की लाज बचाना है|
संसद जैसे पुण्य मंदिर में देवतुल्य मानव पहुँचाना है ||
घन तिमिर का नाश करने को सूरज अम्बर पर छा गया |
चल मतदाता मत देने को  देश बचाने को ,चुनाव आ गया ||   


Related Articles

हमने की थी दोस्ती तुम से
हमने की थी दोस्ती तुम से

हमने की थी दोस्ती तुमसे, थोड़ा गम हमारा कम हो जाए, ग़म क्या कम होता, हमें अंधेरे कुएं में छोड़ आये।

अंतर्मन - दुनिया में अंधेरा जब छाए
अंतर्मन - दुनिया में अंधेरा जब छाए

दुनिया में अंधेरा जब छाए कोई मंजिल अगर तुमको ना नजर आए फिर कोई प्रेम से तुमसे कोई शब्द कहे तुम उस पर ना यकी करना ब

अश्क छुपाए बैठे हैं
अश्क छुपाए बैठे हैं

एक मुक्तक अपने ही हाथों से अपना, जिगर जलाए बैठे हैं । खुशबू की चाहत में गुल से, धोखा खाए बैठे हैं । देख रहे हो जिन आ


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group