प्यार - Kanhaiya Bharatpur

प्यार     Kanhaiya Bharatpur     शायरी     प्यार-महोब्बत     2021-09-22 10:42:48     Love 💕💕     12919        
प्यार

हमने उनसे दिल से प्यार करते रहे 
            और।    
वो  हमारे दिल से खेलते  रहे 
              और 
तब तक खेले जब तक कि दिल          खिलोने 
की तरह टूट न गया

Related Articles

शिक्षक ज्ञान का महाआगार
शिक्षक ज्ञान का महाआगार

कविता का शीर्षक- "शिक्षक ज्ञान का महाआगार" ज्ञान-विज्ञान का महासागर है, गुरु नूतन पंथ का अन्वेषी। तिमिर में प्

मन के धागे
मन के धागे

रोका था मन के धागों को बड़ी सहजता से उलझने से एक विश्वास ही था साथ मेरे खुदके हौसलों को परखने से पंखों को समेटकर रक

Saroj kaswan
Saroj kaswan

◉‿◉बड़े बुजुर्ग कहते है ##गरीब व्यक्ति की हाय ओर ##दोगले व्यक्ति की राय कभी नहीं लेनी चाहिए◉‿◉


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group

प्यार , - Shiwani kumawat | कहानियाँ | Sahity Live

प्यार , - Shiwani kumawat

प्यार ,     Shiwani kumawat     कहानियाँ     प्यार-महोब्बत     2021-09-22 10:42:48         12919        
प्यार ,

दीपू , अनु से बहुत प्यार करता था. दीपू ने अनु को एक दिन प्रपोज़ किया.. अनु :- बोलती हे जितनी तेरी एक महीने की कमाई है, उतना मेरा हफ्ते का खर्चा है, इसलिए मैँ तुम से प्यार नहीं कर सकती हु फिर भी दीपू मन ही मन  अनु से प्यार करता था  ... 10 साल बाद  अनु और दीपू अचानक  एक मॉल  में मिले और, बातो ही बातो में अनु ने कहा मेरा पति आज एक बहुत बड़ी कंपनी में मैनेजर हे. उसकी सेलरी एक महीने की 80 हजार  है. वो बहुत समझदार है, अब तुम ही बताओ, .. मैंने उस दिन तुम से शादी न कर के कोई गलती की क्या...? . दीपू की आँखे नम हो जाती हैं, ... और उसके बाद दोनों अपने शॉपिंग के लिए जाने लगे.. . थोड़ी देर में अनु का पति राज उसे लेने आया और अनु के पति की नजर उस दीपू पर पड़ी और कहा - सर, आप यहाँ ?, बाद में अपनी पत्नी से मिलते हुए कहा कि , ये मेरी कंपनी के मालिक है और एक साल का 600 करोड़ का टर्नओवर है, और सर एक लड़की से बहुत प्यार करते थे , इसलिए आज तक सर ने शादी नही की...अनु  Emotional हो गयी यह है जिन्दगी बस एक पल की मोहताज़ नहीं होती, बस वक़्त उसे मोहताज बना देता है.... "प्यार को समझो और सच्चा प्यार करो उसे महत्व दो,

Related Articles

चाय
चाय

सबके मन को भाती जाय, अदरक वाली मीठी चाय, सुबह सुबह जब मिलती ना, अदरक वाली मीठी चाय, मन नहीं लगता उस दिन जिस दिन मिलती न

माँ
माँ

मंजिल का पता है न ज़माने की खबर है। हर ग़म से अन्जान हूँ वे खौफ नज़र है। आज जो मै खडी हूँ आप सब के सामने ये सब मेरी माँ की

सारा सुकून छीन लिया
सारा सुकून छीन लिया

सारा सुकून छीन लिया एक औरत का सरा सुकून छीन लिया जो कभी एक काम ना करती आज दिन भर काम कर के भी ताने खाती जो मां बाप के


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group