तेरा आना - सरोज कसवां

तेरा आना     सरोज कसवां     ग़ज़ल     प्यार-महोब्बत     2022-05-24 23:42:16         58030           

तेरा आना

     🥰🥰 ...... एक शाम आती है तेरी याद लेकर

एक शाम जाती है तेरी याद देकर

       मुझे तो इंतजार है उस शाम का 

जो आए तुझे साथ लेकर......। 🥰🥰

Related Articles

निर्माण नीड़ों का
Ajeet
कर निर्माण नीड़ो का और कहीं/ पतझड़ का मोसम जो बीत गया, पत्तों का रंग तो सूख गया, अंधेरों का कल में सोर नही
2578
Date:
24-05-2022
Time:
23:27
लिखूं
Prerna sharma
लिखूं तो क्या लिखूं जो लिखने का नाम हो जाए चंद शब्दों के जरिए हर जगह मेरा नाम हो जाए । लेखिका प्रेरणा शर्मा
4913
Date:
24-05-2022
Time:
23:38
जीना सिखों
Ratan kirtaniya
इस जहाँ में सब मतलब में जीते हैं । शराबी गम भूलने के लिए पीते हैं ।। जीना उस से सिखों ----------💐 जो अपने लिए नहीं ----------💐 दू
4711
Date:
24-05-2022
Time:
23:31
Please login your account to post comment here!