चल सको तो चलो - पूनम मिश्रा

चल सको तो चलो     पूनम मिश्रा     ग़ज़ल     समाजिक     2021-09-26 14:19:51     जिंदगी की परेशानियों को पार करते हुए जीवन में आगे बढ़ना     31061        
चल सको तो चलो

राह में कठिनाइयां तो होंगी 
जो चल सको तो चलो
 संघर्ष भरा है जीवन का 
यह पथ जो चल सको तो चलो
 राह में कई मोड़ भी होंगे
 जो चल सको तो चलो
 चलते चलते कई सपने 
टूट भी जाएंगे 
जो चल सको तो चलो 
किसी के जाने से जिंदगी 
नहीं रुकती है 
जो चल सको तो चलो 
मेरा यह साथ भी 
कितने दिनों का है
 जो समझ सको तो चलो 
कोई नहीं है इस राह पर जो
अंत तक तुम्हारे साथ ही
 चले यह समझ कर 
जिंदगी में आगे बढ़ चलो 
तो चलो 
राह में कई मोड़ तो होंगे 
जो चल सको तो चलो 
सभी है मंजिलों की तलाश में
 तुम ही निकल चलो तो चलो

Related Articles

मेरे अल्फाज़
मेरे अल्फाज़

(1). मेरे किरदार पे उसकी ऊगली न उठी होती गर उसकी भी कोई बहन या बेटी होती (2). ख़ुद्दारी गवां कर ता'अल्लुक निभाना मुनासिब

खुदा
खुदा

खुदा ने क्या चीज बनाई इंसान लेकिन इंसान आपस मे में ही मिटने लगे

कलम की ताकत
कलम की ताकत

कलम की ताकत वया कैसे करूं मैं, जो जुवां नहीं बोलती वो कलम बोलता हैं, कैसे कहदू बेजान हैं वो, शब्दों में जान डालता हैं


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group