आवाज़-ए-शहीद - आकाश अगम

आवाज़-ए-शहीद     आकाश अगम     ग़ज़ल     दुःखद     2021-09-26 15:35:14     #आवाज़-ए-शहीद #शहीद की आवाज़ #ग़ज़ल #फूल डालो मत अभी #आतंकवादी #भगत सिंह #सुखदेव #राजगुरू #चंद्रशेखर आज़ाद #Akash Agam #आकाश अगम     30432        
आवाज़-ए-शहीद

दुनिया तो वैसे भी छुटी दिल से निकालो मत अभी
ज़िंदा हूँ मुझपर रोज़ आकर फूल डालो मत अभी।।

मैं मर गया तो ठीक है इतना रहम तो तुम करो
मेरी चिता मेरे बिना ऐसे जलाओ मत अभी।।

मैं मर गया हूँ आज इसकी हैं वज़ह गद्दार जो
मेरी नज़र के सामने उनको बुलाओ मत अभी।।

जिनकी वज़ह से दूर मैं अपनों से उनसे ही कहीं
मुझ से मरे को मार कर रिश्ता बनाओ मत अभी।।

मैं   हूँ  भगत  आतंकवादी   तोहमत   संसार   की
लेकिन बुरे पर सत्य की चादर लगाओ मत अभी।।

Related Articles

भूल हो जाती है सबसे
भूल हो जाती है सबसे

भूल हो जाती है सबसे हां भूल हो जाती है सबसे किसी को पहचानने में किसी की नियत जानने में अक्सर हमारी आखे धोखा खा जाती

संतोष ही आनन्द - लोगों के लिए प्रेरणा से भरपूर मेरी कविता
संतोष ही आनन्द - लोगों के लिए प्रेरणा से भरपूर मेरी कविता

जिन्दगी के सफर में, कई मोड़ और कई रंग आते हैं । कभी खुशी तो कभी गम है, फिर भी कुदरत की फिदरत, है कमाल की, ये जहां है निर

आओ खेल खेलें
आओ खेल खेलें

आओ खेल खेलें रंग बिरंगी कश्तियां बनाकर,बारिश के पानी में तेहराकर आओ खेल खेलें, डाल डाल पर चढ़ते जाए, लुक्का चुप्


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group