रातो के ख्वाब ले गया कोई - फूल गुफरान

रातो के ख्वाब ले गया कोई     फूल गुफरान     शायरी     प्यार-महोब्बत     2022-08-14 15:50:07         13050           

रातो के ख्वाब ले गया कोई

रातो के ख्वाब ले गया कोई
मेरे लव से गुलाब ले गया कोई
धडकनों को मेरी खबर भी नही
मेरा दिल जनाव ले गया कोई

Related Articles

समाज की दिशा
Santosh kumar koli
हां, ज़माना बदल रहा है। यह,समाज को छल रहा है। बच्चे, दादा-दादी के, सानिध्य में रहते थे। एक था राजा, एक थी रानी, किस्से
57600
Date:
14-08-2022
Time:
15:34
रिटायरमेंट लाइफ
akhilesh Shrivastava
* रिटायरमेंट लाइफ * जब से हम रिटायर्ड हो गये बड़ी मुसीबत में हम पड़ गये दस से पांच की छोड़ नौकरी दिन रात हम काम पे लग
5726
Date:
14-08-2022
Time:
14:28
जीवन- सच
Santosh kumar koli
कल का पता न पल का पता, बांधता मन-मन की। जवानी के झाग झांवर गए, रेनी मैली भवन की। ठान खोदता, आन अज़माता, सुध न रही कंचन त
8938
Date:
14-08-2022
Time:
17:38
Please login your account to post comment here!