शेर - फूल गुफरान

शेर     फूल गुफरान     शायरी     प्यार-महोब्बत     2021-09-22 11:29:54         462        
शेर

तेरे लिए मौहब्बत का रुख मोड़ देते ।
बेवफा तेरे लिए हम घर छोड़ देगें।
पल भर मे लूटकर ले गई अना मेरी 
तू आ तो सही तेरे लिए शहर छोड देगे।।


दिलो कि आवाज़ बन गये तुम ।
धडकनों का साज़ बन गये तुम।
हमने मागी थी दुआ रब से यही
जिंदगी का मेरी एहसास बन गए तुम



चाहतो से बो मुँह मोड गई।
इश्क में मुझको अकेला छोड गई।
लूट कर मुझसे हर खुशी मेरी ।
मेरा रिस्ता ग़मो से जोड गई।

Related Articles

हमने की थी दोस्ती तुम से
हमने की थी दोस्ती तुम से

हमने की थी दोस्ती तुमसे, थोड़ा गम हमारा कम हो जाए, ग़म क्या कम होता, हमें अंधेरे कुएं में छोड़ आये।

जिंदगी - मैं जिंदगी के गम भुलाना चाहती थी
जिंदगी - मैं जिंदगी के गम भुलाना चाहती थी

मैं जिंदगी के गम भुलाना चाहती थी उस शख्स के साथ क्या पता था वही गम दे गया जिंदगी भर के लिए. लेखिका प्रेरणा शर्मा

क्या ख़ता मेरी
क्या ख़ता मेरी

( ग़लती चाहे किसी की भी हो, लेकिन अधिकतर समाज के व्यंग्य बाण एक लड़की को ही झेलने पड़ते हैं। एक लड़की के हृदय की कुछ बातों


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group

शेर - फूल गुफरान | शायरी | Sahity Live

शेर - फूल गुफरान

शेर     फूल गुफरान     शायरी     दुःखद     2021-09-22 11:29:54         462        
शेर

तकदीर बनके उजडी अरमा हुए न पूरे ।
 जो ख्बाब हमने देखे सब रह गये अधूरे।।

Related Articles

प्यार में गुड़ाखू करना।
प्यार में गुड़ाखू करना।

सुना है इश्क में कुत्ते भी आचार खाते है। वो पागल लोग है जो प्यार में गुड़ाखू करते है। मोहल्ले में हमारे एक आदमी आश

एक तरफा प्यार ।
एक तरफा प्यार ।

में नही जानती कि मेरी तकदीर में खुदा ने तुझे लिखा या नही । पर मेरा प्यार मेरे लिये खुदा की इबादत से भी कम नही ॥ जनत की

अजूबा ताजमहल
अजूबा ताजमहल

अचंभा क्या है? ताजमहल का बस तरासे चूना पत्थर ? शायद नहीं ! किया अजूबा इसे विश्व में , भाव छिपा क्या इसके अंदर ? देखा ज


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group

शेर - फूल गुफरान | शायरी | Sahity Live

शेर - फूल गुफरान

शेर     फूल गुफरान     शायरी     प्यार-महोब्बत     2021-09-22 11:29:54         462        
शेर

उजडे हुऐ चमन की पहचान हो गये हम
एक खुशनुमा चेहरे की मुस्कान हो गये हम 
हम हो गये मेहमान किसी खुशनुमा जिगर के
जब से मिली निगाहें कुर्वान हो गये हम।।।

Related Articles

शायरी सच्चा प्यार
शायरी सच्चा प्यार

मीठी-मीठी यादों को दिल मैं बसा लेना जब आऐ हमारी याद रोना मत हँस कर हमें अपने सपनों मैं बुला लेना

अभी जाना है कितनी दूर
अभी जाना है कितनी दूर

अभी जाना है कितनी दूर। अभी तो छोड़ेंगे घर द्वार बने फुटपाथों पर परिवार करें संतुष्ट हृदय को हाय दूर से ही रोटियाँ न

हिंदी दिवस
हिंदी दिवस

हिंद के हम वासी है, हिंदी हमारी शान है हिंदी से ही हम बने , हिंदी हमारी पहचान है सम्पूर्ण राष्ट्र को हिंदी दिवस की ह


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group

शेर - फूल गुफरान | शायरी | Sahity Live

शेर - फूल गुफरान

शेर     फूल गुफरान     शायरी     प्यार-महोब्बत     2021-09-22 11:29:54         462        
शेर

रास्ते अच्छे नही लगते सफर अच्छा नहीं लगता 
तुम्हारे बिन न जाने क्यो ये घर अच्छा नहीं लगता
ज़माने  की  सारी  नेमते  मौजूद हो लेकिन
अगर बेटी न हो घर में तो घर अच्छा नहीं लगता

Related Articles

बेवफा
बेवफा

तकदीर ही जब बेवफा हो जाए आदमी जाए तो कहाँ जाए जी रहे हो बस आज की खातिर किसे क्या पता कल क्या हो जाए तकदीर ही जब बेवफा

* वादा-खिलाफी *
* वादा-खिलाफी *

#समसामयिक ** वादा-खिलाफी ** हाथ में, गंगा जल को लेकर, बंद करने का, वादा को कर, यह चीज खराब । सत्ता की सरकार दुकान म

प्रेम
प्रेम

प्रेम का तन से कैसा नाता ! प्रेम की है ये कैसी भाषा !! प्रेम बिछोह है, प्रेम मिलन है ! प्रेम अगन है, प्रेम लगन है !! प्र


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group

शेर - फूल गुफरान | शायरी | Sahity Live

शेर - फूल गुफरान

शेर     फूल गुफरान     शायरी     प्यार-महोब्बत     2021-09-22 11:29:54         462        
शेर

कभी खुशियां कभी है ग़म ।
अजब है प्यार का मौसम।
कितने खुशनसीब थे बो पल ।
जब मिले थे तुम और हम।।।

Related Articles

झांकती नजरों में
झांकती नजरों में

ख़ामोशी भी बहुत कुछ कह जाती है, मायूसी दिल की बहुत हद तक बयां कर जाती है, खोखली मुस्कान के कुछ राज खोल जाती है, झांकत

जीतने की ज़िद्द
जीतने की ज़िद्द

वो हार-हार नही जिसमे जीत परास्त न हो, वो व्यक्ति इज्ज़तदार नही जिसमे मान-सम्मान न हो, हर घड़ी की सताईं यादें, बातों में

मैं आत्मा
मैं आत्मा

जो कहता था, जन्मो जन्म का रिश्ता है तेरा मेरा साथ। मुझे मरे हुए एक साल ही बिता था, वह थाम लिया दूसरे का हाथ।।


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group

शेर - फूल गुफरान | शायरी | Sahity Live

शेर - फूल गुफरान

शेर     फूल गुफरान     शायरी     प्यार-महोब्बत     2021-09-22 11:29:54         462        
शेर

मन मे सबका अरमान नही होता 
हर कोई दिल का मेहमान नहीं होता
जो धड़कनों मे समा जाए एक बार
उसको भूलना आसान नहीं होता।।।

Related Articles

अंधकारदीप जलाते हों....?
अंधकारदीप जलाते हों....?

अंधकारदीप जलाते हों....? भगवान अंशुमाली आपनी आखरी साँस ले रहै थे। लगता था कि क

कोई नहीं है दिल में मेरे
कोई नहीं है दिल में मेरे

कोई नहीं है कितनी बार कहा मेरे दिल में कोई नहीं है मग़र तुम हो कि मानते ही नहीं हाँ रोती हूँ , अकेले रहती हूँ, चुप र

काश दिल की कुछ ख्वाहिशें
काश दिल की कुछ ख्वाहिशें

काश कोई इस सुने दिल में फिर से दीप जला जाए अपनों की इस दुनिया में अपनों की परिभाषा बतला जाए इस रंग बदलती दुनिया म


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group

शेर - फूल गुफरान | शायरी | Sahity Live

शेर - फूल गुफरान

शेर     फूल गुफरान     शायरी     प्यार-महोब्बत     2021-09-22 11:29:54         462        
शेर

बक्त और हालात से डर लगता है
दिल के जज्बात से डर लगता हैं
डर लगता है तेरे बिझड जाने से 
अब तो जिंदगी के हालत से डर लगता है

Related Articles

मैं फिलीस्तीन हूँ सियासत मे जलता हूँ
मैं फिलीस्तीन हूँ सियासत मे जलता हूँ

जालिमों की हिरासत मे जलता हूँ अपने घर,अपनी रियासत मे जलता हूँ तुम मुझे पहचानते हो ऐ दुनियाँ जहाँ वालो मैं फिलीस्त

अरमान
अरमान

है चाहत यही अरमान यही कुछ करके गुजर जाने दो । इस अमर शहीदों की दुनिया में अपना भी नाम लिख आने दो।। है जो लोग गरीब उ

आदतों से सुधरा तो सुधरता गया वो
आदतों से सुधरा तो सुधरता गया वो

आदतों से सुधरा तो सुधरता गया वो फिर जो उभरा तो उभरता गया वो इतनी सच्ची थी रूह उसकी कि जब जिस्म मे उतरा तो उतरता गया


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group