Saroj kaswan - सरोज कसवां

Saroj kaswan     सरोज कसवां     शायरी     समाजिक     2022-05-24 23:52:42         248633        4.0/5 (1)    

Saroj kaswan

        रोटी कमाना बड़ी बात नहीं है 
        रोटी परिवार के साथ खाना 
                 ✨  बड़ी बात है ✨

Related Articles

फैशन
SANTOSH KUMAR BARGORIA
फैशन ------------ फैशन का ये दौर नाजाने हमें, भला अब और कहॉ ले जायेगा । सर से तो चुनरी कब की सरक चुकी, दिन जाने क्
28646
Date:
24-05-2022
Time:
22:40
विराम चिन्ह का प्रयोग
रोhit Singh
विराम चिन्ह् का प्रयोग आपने अक्सर किसी किताब,कहानी,अखबार,लेख आदि। को पढ़ते समय या लिखते समय विराम चिन्ह को वाक्य
52785
Date:
24-05-2022
Time:
23:56
पंसद नही हैं अगर तो भुला दे हमको
मारूफ आलम
पंसद नही हैं अगर तो भुला दे हमको या मौत की गहरी नींद सुला दे हमको माजूर हैं,भूखे भी,हमें तरकीबें न सुझा खाना खिला य
23916
Date:
24-05-2022
Time:
23:00
Please login your account to post comment here!
B S Arya     rated 4     on 2021-10-31 12:46:04
 Very nice