Saroj kaswan - सरोज कसवां

Saroj kaswan     सरोज कसवां     शायरी     समाजिक     2022-10-06 05:49:49         51756        4.0/5 (1)    

Saroj kaswan

        रोटी कमाना बड़ी बात नहीं है 
        रोटी परिवार के साथ खाना 
                 ✨  बड़ी बात है ✨

Related Articles

खुद पे यकीन करो तुम
Disha Shah
खुद पे यकीन करो तुम खुद पे शक मत करो तुम खुद को कम मत समजो तुम तुम्हारे में भी है वो बात तुम किसी से कम नहीं हो तुम क
57256
Date:
06-10-2022
Time:
04:53
* वादा-खिलाफी *
चिन्ता netam " मन "
#समसामयिक ** वादा-खिलाफी ** हाथ में, गंगा जल को लेकर, बंद करने का, वादा को कर, यह चीज खराब । सत्ता की सरकार दुकान म
16983
Date:
06-10-2022
Time:
05:42
पद
आकाश अगम
मोसों रार न देखी जाय। देस, विदेस, और हर घर में फूट परी दिखलाय।। जा दिन तै हौं जनम लियौ है , नेह न पायौ हाय। नेह कछू
21976
Date:
06-10-2022
Time:
05:36
Please login your account to post comment here!
B S Arya     rated 4     on 2021-10-31 12:46:04
 Very nice