प्यार और साजिश - सरोज कसवां

प्यार और साजिश     सरोज कसवां     कहानियाँ     दुःखद     2021-09-22 11:16:08         13452        
प्यार और साजिश

         एक शहर के पास छोटा सा कस्बा था जिसमें लगभग 250 परिवार रहा करते थे ! 
        जिनमे से एक परिवार था जिनमें एक किसान के एक लड़की ओर दो लड़के थे 
लड़की का नाम रिया था पिता अपने तीनों बच्चो को स्कूल भेजते थे  किसान के घर के ही पास में दूसरा परिवार रहता था जिसमें एक लड़का और दो लड़की थी  लड़के का नाम वीर था 
   वीर ओर रिया दोनों ही एक क्लास में पढ़ाई करते थे दोनों में धीरे धीरे दोस्ती हो गई और वो दोनों रोज गांव में ही मिला करते थे 
        ये सब अब स्कूल ओर परिवार में पता 
 चलेने लगा तो घर वालो ने रिया की पढ़ाई बन्द करदी अब वो घर में ही रहा करती थी वीर के घर वालो को भी पता चल गया  पर कभी वीर को घर वालों ने कुछ नहीं कहा अब गांव में दोनों की बाते सब को पता लग गई सब बाते बनाने लगे तो रिया के घर वालो ने सोचो की क्यों न रिया की शादी कर दी जाए !! 
 

        ईधर वीर के घर वालो ने भी वीर के लिए लड़की देख ली और रिश्ता तय कर दिया।  रिया का भी रिश्ता हो गया और शादी भी हो गई लेकिन वीर ओर रिया शादी के बाद भी मिलने से नहीं रुके बहुत समझा लिया घर वालो ने उन दोनों के कानों में जू तक नहीं रेंगी !
      रिया के ससुराल वालों को अब धीरे धीर पता चलने लगा जैसे ही रिया मायके आती तो वो कभी अपने पति से बात नहीं करती थी तो रिया के पति ने इसकी वजह जनानी चाही तो किसी रिश्तेदार से ये सब मालूम हुआ ।
  एक दिन रिया मायके में थी और दूसरे ही दिन उस उसका पति उसे लेने आ गया रिया साथ चली गई वहां जाकर पति ने रिया से कहा कि अब तू अपनी प्रेमी को अपने फोन से बुलाओगी ओर कहोगी की में तुमसे 
 मिलना चाहती हूं आज रात दस बजे तुम आ जाना जब मेरे घर वाले सो जाए तो ओर तुम्हारे प्रेमी को पता नहीं लगना चाहिए कि ये सब मेरे पति ने कहा है तुझसे खने को वरना उससे पहले तुझे जान से मर दुगा ।
        जैसे ही रात के दस बजे रिया के पति ने रिया के फोन से कॉल करवाया ओर आने को कहा अब दो घंटे बाद रिया का प्रेमी वहां पहुंच जाता है  घर की लाइटे सब बन्द है  उसे लगा शायद सिर्फ रिया है जाग रही है सब सो गए है 
     अचानक से रिया के प्रेमी वीर के गले में किसी ने रस्सी डाल दी और उसे वहीं दबोच लिया   रिया के पति ने अपने दो ओर साथियों को बुला रखा था अब वीर को लगभग दो घंटे पीटने के बाद उसे कही ओर ले जाने लगे रिया रोते हुए कहती है छोड़ दो उसे में आज के बाद  कभी नहीं मिलेगी वीर से भगवान के लिए वीर को छोड़ दो लेकिन वीर को दो - तीन लड़के किसी सुनसान जगह पर ले जाते है और वहां पर सब ने खूब शराब पी ओर रात भर वीर को पीटा सुबह तक जब उसकी सांसे रुक गई तो सड़क पर फेंक कर चले जाते है 

   सुबह  ये खबर सब जगह फेल जाती है पुलिस अपनी करवाई में लग जाती है रिया ओर उसके पति व उसके साथियों की गिरफ्तार कर लिया जाता है 





सरोज कसवां

Related Articles

कविता, बड़े भाग्य से आये हो जग में।
कविता, बड़े भाग्य से आये हो जग में।

बड़े भाग्य से आये हो जग में। कर लो कुछ तुम अच्छा काम। दिल जीतने का रखो तुम मकसद। एक दिन जग करेगा सम्मान। जग जीतने

दर्द दिल का
दर्द दिल का

तेरे इश्क ने हमें गुमराह कर दिया तुने दिल में ऐसा जख्म भर दिया हमें क्या हम तो आशिक ही तेरे थे इसलिए तुने हमें बेगु

बेटियां
बेटियां

बहुत खुश होता है ऊपरवाला तब गोद में आती हैं बेटियां युग कितने भी बदले आज भी लक्ष्मी ही कहलाती हैं बेटियां जिम्मे


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group