Saroj - सरोज कसवां

Saroj     सरोज कसवां     कहानियाँ     बाल-साहित्य     2021-09-26 15:52:58     शिक्षक दिवस की शुभकामनाएं !!💐💐     23306        
Saroj

शिक्षक दिवस की शुभकामनाएं !!💐💐

वर्तमान में ट्रेंड चल रहा है कि 10 वर्ष से लेकर युवावस्था तक के बहुत सारे युवा गैंगस्टर टाइप विडियोज देखते है, 
उनकी लाइफस्टाइल को फॉलो करते है। 

काट दयाँगे,फाड़ दयाँगे,बहम काड दयाँगे वगैरा वगैरा तरह की भाषा शैली का प्रयोग करते है।

पढ़ाई से कोसो दूर,फर्जी अलटपू टाइप के गाँजेडीयो की संगत,
गैंगस्टर्स को आदर्श रूप में मानना और नशेड़ियों के साथ बाइक पर घूमना उनके शौक में शुमार है।

खुद को हरयाणवी या पंजाबी गानों के विलेन की तरह प्रस्तुत करना, ये सब वो अपने निजी जीवन में अपना रहे है।

अगर आप चाहते हैं कि एक सुसभ्य और सुसंस्कृत समाज का निर्माण हो तो इस तरह की प्रजाति को पनपने ना दे,
उगते हुए पौधे को जड़ से उखाड़ फेंके ताकि बीज ना पनपने पाए।

इस पुनीत कार्य में पुलिस और प्रशासनिक व्यवस्था से जुड़े मित्र अपना बेहतरीन प्रदर्शन करेंगे तो सकारात्मक परिणाम आने की अपार संभावनाएं हैं।

Related Articles

आरजू की जंग
आरजू की जंग

आरजू की हद हो गई, विचारों ने संग्रह में धावा बोला। चाहतों के फूल ने खुशबू बिखेरी, हद यह खेल मजाक हो गया। रंग_बेरंग स

आदतों से सुधरा तो सुधरता गया वो
आदतों से सुधरा तो सुधरता गया वो

आदतों से सुधरा तो सुधरता गया वो फिर जो उभरा तो उभरता गया वो इतनी सच्ची थी रूह उसकी कि जब जिस्म मे उतरा तो उतरता गया

गिरकर संभलना सीखो
गिरकर संभलना सीखो

गिरकर संभलना सीखो, हर मुश्किल से लड़ना सीखो, कांटे हो या अंगारे , रास्ते में आगे तुम बढ़ना सीखो।


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group