पीने दे - Vipin Bansal

पीने दे     Vipin Bansal     गीत     दुःखद     2022-07-03 21:20:58     #पीने दे     37524           

पीने दे

मत रोक मुझे तू पीने दे                               
कुछ दिन और जीने दे.                                
मत रोक मुझे तू पीने दे.                            

इतनी पिला दे मुझको साक़ी.                        
ग़म बचे न दिल में बाकी.                             
ग़म को रुख़सत होने दे.                             
मत रोक मुझे तू पीने दे ंंंंंंंंंंं.         
      

काटे नहीं कटती.                                      
ग़मे ज़िंदगी की ये राते काली.                      
तेरे जाम की साक़ी बात निराली.                    
हर सुबह दिवाली हर शाम दिवाली.                
इस ग़मे अंधियारे में दीपक जलने दे
मत रोक मुझे तू पीने दे ंंंंंंंंं.               
                     

मत कह साक़ी इसे तू ज़हर का प्याला.             
ज़हर नहीं ये अमृत प्याला.                          
मुर्दे में भी जीवन डाला.                                 
ये जाम साक़ी बड़ा दिलवाला.                      
ग़म के मारो को इसने पाला.                       
लबों से इसे तू छू कर देख.                            
तू भी जीवन जी कर देख.                        
आगोश में इसके जीने दे.                          
पहलू में इसके मरने दे
मत रोक मुझे तू पीने दे ंंंंंंंंंंंं

    विपिन बंसल

Related Articles

उपवास और व्रत
YOGESH kiniya
जिस देश को संपूर्ण विश्व ने विश्व गुरु की उपमा से उपमानित किया हो। नि:संदेह उस देश के धर्म, संस्कृति और सभ्यता में ज
3088
Date:
03-07-2022
Time:
20:27
राजनीती बही है
Rupesh Singh Lostom
कुछ नहीं बदला है गर्दन बही है बस जलाद बदला है हम और आप बो ही है बस एक और तलबार बदला है सब कुछ जस के तस है बस हमारी गर्
2829
Date:
03-07-2022
Time:
14:29
मां की ममता
Roobi sharma
एक मां के दो बेटे थे मां अपने बच्चों से बहुत प्रेम करती थी वह अपने बच्चों को पढ़ा लिखा कर डॉक्टर और आईपीएस बनाना चाह
8443
Date:
03-07-2022
Time:
23:49
Please login your account to post comment here!