Join Us:
20 मई स्पेशल -इंटरनेट पर कविता कहानी और लेख लिखकर पैसे कमाएं - आपके लिए सबसे बढ़िया मौका साहित्य लाइव की वेबसाइट हुई और अधिक बेहतरीन और एडवांस साहित्य लाइव पर किसी भी तकनीकी सहयोग या अन्य समस्याओं के लिए सम्पर्क करें

वहा चांद छुपा आईने में

Pratibha Khadekar 21 Jun 2024 गीत अन्य Writer Pratibha Khadekar 10538 0 Hindi :: हिंदी

वहा चांद छुपा आईने में 
    रचनाये -प्रतिभा खडेकार 
हे हे हे ला ला ला ला ला,,हे हे हे ला ला ला ला ला...
वहा चांद छुपा आईने में,, देखते मुस्कुरा ती ग़ज़ल 
बरस्ते बादलों ने ढक दिया चांद को 
पहल ये बन गईं,,कब मैं शायर बनूंगा 
गरज गरज गुंजूगा ... हे हे हे 
कितनी गहराई से बदन पर बुंदे 
पैरों से झलकें गर्दन तक उड़ जाये 
हे हे हे ला ला ला ला ला,, हे हे हे ला ला ला ला ला 
वहा चांद छुपा आईने में,, देखते मुस्कुरा ती ग़ज़ल 
उसकी परछाई ने छु लिया हमें 
घेरता गया उसे बादलों का डेरा 
निले काले बादलों में से 
बरसें पानी के ये बुंदे 
छल छल छल चुम जायें धरती को 
अपनी अंदर समायें झुम जाए ज़मीं 
हे हे हे ला ला ला ला ला,, हे हे हे ला ला ला ला ला 
वहा चांद छुपा आईने में,, देखते मुस्कुरा ती ग़ज़ल 
सिने से धरती के मैं लिपटु 
सुकून मां की गोद का पाऊं 
 बादल ने हमें बताया 
बदलते मौसम में बह जाना,,
जाना जाना जाना जाना जाना 
गरज़ते हुए शोर मचाना 
हे हे हे ला ला ला ला ला,, हे हे हे ला ला ला ला ला 
                              ,,,,,7517947668

Comments & Reviews

Post a comment

Login to post a comment!

Related Articles

ये खुदा बता तूने क्या सितम कर दिया मेरे दिल को तूने किसी के बस मैं कर दिया वो रहा तो नहीं एक पल भी आकर टुकडें- टुकड़ें कर दिये ना विश्वा read more >>
Join Us: