मां - Mk rana

मां     Mk rana     कविताएँ     अन्य     2022-08-14 17:26:05         67266           

मां

यह शक्ति है मां की इसे कौन मिटाएगा?
यह सीख है उन बच्चों के लिए जो मां का कदर
नहीं करना जानते
जो कहता है क्या कर दी हो मेरे लिए
यह तो छोटी अनुयान है ऐसी कई कार्य है
मां की जिसकी कोई गिनती नहीं
ये ममता है मां की इसलिए वरना इतना दर्द
कौन तुम्हारे लिए उठाएगा?

Related Articles

Writer by Iqrar Ali, मोहब्बत शायरी दिल तोड़
Iqrar Ali (आई क्यों )
पैसे के जैसा तो मैं नही हूं लेकिन पैसे के लिए अपना ईमान बेच दूं वैसा भी नही हूं। क्योंकि पैसा तो सब के पास होती है ल
74171
Date:
14-08-2022
Time:
18:02
Writer by iqrar Ali, मोहब्बत शायरी दिल तोड़
Iqrar Ali (आई क्यों )
कहां तक वफा करू मैं, क्योंकि अब लोग भी पैसों को वफा समझ ने लगे है।
74171
Date:
14-08-2022
Time:
18:02
कविता, - वन महोत्सव
राणा प्रताप कुमार
वन हमारे अमुल्य सम्पदा। जडी़ वुटि औषधि से भरा पड़ा। देश का है प्राकृतिक शोभा। हरा भरा ये बसुंधरा। वन से जीवन का
21228
Date:
14-08-2022
Time:
18:01
Please login your account to post comment here!