//... पैगाम-ए-दिवाली...// - Chinta netam " mind "

//... पैगाम-ए-दिवाली...//     Chinta netam " mind "     कविताएँ     समाजिक     2022-12-01 15:17:59     सामाजिक     9974           

//... पैगाम-ए-दिवाली...//

//... पैगाम-ए-दिवाली...//

मत हो परेशान तू ,
जिंदगी एक काम है...!

मुश्किलों से लड़ना सीख ,
जिंदगी एक मुकाम है...!

किस घड़ी यह कैसी होगी ,
इससे सब अनजान है...!

अपना हौसला बुलंद रख ,
फिर जिंदगी तेरे नाम है...!

दे रहा मैं तुम्हें कि आज ,
दिवाली की शाम है...!

जो कुछ भी है मेरे पास ,
बस यही , बस यही पैगाम है...!
                    
               चिन्ता नेताम " मन "
             डोंगरगांव (छत्तीसगढ़)

Related Articles

कविता- 👌 जीवन बहुत छोटा है👍प्रस्तुतकर्ता-सपनों का सौदागर.... करण सिंह💐
Karan Singh
कविता- 👌 जीवन बहुत छोटा है👍प्रस्तुतकर्ता-सपनों का सौदागर.... करण सिंह💐 *एक दिन मेरा* *मोबाइल चलते-चलते* *धीरे
705
Date:
01-12-2022
Time:
15:11
21वीं सदीं में परतन्त्रता की आनोखी दासतान
Amrita pandey
नमस्कार आज आपसे एक ऐसे विषय पर अपने विचारों को साझा करने जा रही हूं जो समाज का एक महान चरित्रार्थ बन चुका है यह सभी ज
7374
Date:
01-12-2022
Time:
11:29
Writer by Iqrar Ali, मोहब्बत शायरी दिल तोड़
Iqrar Ali (आई क्यों)
मोहब्बत हमेशा अनरीचबल मूड में ही रहता है,लेकिन जबतक इनेबल मूड ऑन होता है तबतक आउट गोइंग कॉल बंद हो जाती है।
261901
Date:
01-12-2022
Time:
14:00
Please login your account to post comment here!