Shreyansh kumar jain

Shreyansh kumar jain

I am poet

Mansarovar, jaipur

View Certificate Send Message
  • Followers:
    0
  • Following:
    0
  • Total Articles:
    29

Recent Articles


"मोहब्बत का जाना ओर फिर किस्सों का याद आना"
"मोहब्बत का जाना ओर फिर किस्सों का याद आना"

मोहब्बत की वो पुरा

"शांति की बौछार आये जीवन मैं सदाबहार"
"शांति की बौछार आये जीवन मैं सदाबहार"

अपने दिल की सारी व्

"हमारे बचपन के दिन "
"हमारे बचपन के दिन "

मिट्टी के खेलों मे

"यादों वाली उन बातों को मैं कैसे समझ पाऊँगा"
"यादों वाली उन बातों को मैं कैसे समझ पाऊँगा"

यादों वाली उन बातो

मेरे प्यारे कश्मीर को आज हमने भारत में मिलाया है
मेरे प्यारे कश्मीर को आज हमने भारत में मिलाया है

भारत माँ की दामन से

आंतक से सामना - एक वतन का खात्मा
आंतक से सामना - एक वतन का खात्मा

वह दारूण दर्शय देख-

माँ का प्यार - ममता की तू अजब दुलारी प्यार में तू न्यारी है
माँ का प्यार - ममता की तू अजब दुलारी प्यार में तू न्यारी है

ममता की तू अजब दुला

"अपने सपनो का जूनून "
"अपने सपनो का जूनून "

लौहा हूँ मैं अभी मु

"आने वाले कल की उम्मीद है हम युवा है हम"
"आने वाले कल की उम्मीद है हम युवा है हम"

आने वाले समय का चक्

तुम धीरे घर पर आया करो
तुम धीरे घर पर आया करो

तुम धीरे घर पर आया क

"सरकारों द्वारा ठगा जाता हूँ बेरोजगार कहलाता हूँ"
"सरकारों द्वारा ठगा जाता हूँ बेरोजगार कहलाता हूँ"

दिन-दोपहरी कन्धों

"मैं जन्मों-जन्मों तक आपका शिष्य बनना चाहता हूँ"
"मैं जन्मों-जन्मों तक आपका शिष्य बनना चाहता हूँ"

खुश किस्मत हूँ मैं

"मानव जात से प्रभु इस कोरोना को खत्म करो ना"
"मानव जात से प्रभु इस कोरोना को खत्म करो ना"

मानव जात से प्रभु य

"मजदूर हूँ मैं "
"मजदूर हूँ मैं "

मजबूर हूँ साहाब इन

"मेघ तू अब तो बरस जा अन्नदाता के आँसू पहुँच जा"
"मेघ तू अब तो बरस जा अन्नदाता के आँसू पहुँच जा"

मेघ तू अब तो बरस जा

"भारत माँ के बेटे है- खुलकर सामने आयेंगे"
"भारत माँ के बेटे है- खुलकर सामने आयेंगे"

हम है प्यारे भारत म

"दोस्त मेरी जान दोस्तों से मेरी पहचान "
"दोस्त मेरी जान दोस्तों से मेरी पहचान "

मेरे प्यारे इस जीव

मातृ भाषा से करे प्यार हिन्दी भाषा को मिले सम्मान
मातृ भाषा से करे प्यार हिन्दी भाषा को मिले सम्मान

हिन्दी भाषा नहीं म

"लडकी पर ना हो अत्याचार उनका हर दम हो सम्मान"
"लडकी पर ना हो अत्याचार उनका हर दम हो सम्मान"

वह कितनी सुन्दर प्

"शहर हूँ मैं" - युवाओं की भीड हूँ मैं,
"शहर हूँ मैं" - युवाओं की भीड हूँ मैं,

युवाओं की भीड हूँ म

एक कविता "प्यार के नाम "
एक कविता "प्यार के नाम "

कितना सुन्दर तुम द

"सब टूट गये सब छूट गये सपने सारे छूट गये "
"सब टूट गये सब छूट गये सपने सारे छूट गये "

सब टूट गये सब छूट गय

"कितना अकेला हूँ मैं "
"कितना अकेला हूँ मैं "

कितना अकेला हूँ मै

"अपना रूप हमेशा दिखाती है प्रकृती"
"अपना रूप हमेशा दिखाती है प्रकृती"

अपना रूप हमेशा दिख

"संस्कृति से खुलेआम खेल रहा है इंसान"
"संस्कृति से खुलेआम खेल रहा है इंसान"

संस्कृति से खुलेआम

"ग्रामीण परिवेश अब खोता जा रहा है "
"ग्रामीण परिवेश अब खोता जा रहा है "

ग्रामीण परिवेश अब

तुम जवानी की रवानी हो तुम मोहब्बत की कहानी हो
तुम जवानी की रवानी हो तुम मोहब्बत की कहानी हो

तुम चांद सी चमकती प

"किस्सा हमारी प्यारी यादों का"
"किस्सा हमारी प्यारी यादों का"

जन्म हुआ ता मेरा जब

"इतिहास तूझे हमेशा तेरे योगदान से दोहराऐगा"
"इतिहास तूझे हमेशा तेरे योगदान से दोहराऐगा"

जब तक सूरज-चाँद रहे