Santosh kumar koli

Santosh kumar koli

Village Saipur post Bhawani tehsil jamwaramgarh district jaipur pin.code 303001

View Certificate Send Message
  • Followers:
    2
  • Following:
    2
  • Total Articles:
    73

Recent Articles


भतत
भतत

बतमरश्र

Lekh
Lekh

Lekhan

दुनिया का रिवाज़
दुनिया का रिवाज़

तेरी है, न मेरी है, य

मानसिक सीमा
मानसिक सीमा

बिन धरातल, बिन तूलि

बाल जीवन
बाल जीवन

वाह! क्या कहना बाल ज

रात
रात

रात अंधेरी क्या डर

शिक्षक
शिक्षक

भाव दबाए, इच्छा समा

शबनम -मोती
शबनम -मोती

यौवन युक्त विभावरी

पद-चिन्ह
पद-चिन्ह

मानव पर अखिलेश्वर,

शांति
शांति

त्यागो व्यर्थ की क

नकटा
नकटा

न मानी की, न ज्ञानी

बिकाऊ
बिकाऊ

ले जा बाबू ले जा, ले

गुलामी
गुलामी

सच्ची है, नहीं तकिय

कल की उलझन
कल की उलझन

कल, कल हो क्यों नहीं

आम आदमी
आम आदमी

होगा कोई, होगा जैसा

हाइकू
हाइकू

१ हृदय-तोल अमृत रस

हायकू
हायकू

चुका उधार पेड़ों स

भारतवासी
भारतवासी

हम भारत मां के, प्या

साहसी
साहसी

तूफ़ानों का सीना च

बचपन के दोस्त
बचपन के दोस्त

कुछ रास्ते, रिश्तो

सयाना मन
सयाना मन

ऩजर को लगी ऩजर, दिखा

जीवन
जीवन

जीवन एक इंद्रधनुष,

ग़रीब
ग़रीब

इस मामले में, मैं ग़

मज़दूर
मज़दूर

पसीने की क़ीमत, किस

बेकफ़न लाशें
बेकफ़न लाशें

किसी को नाम, किसी को

अवसर
अवसर

अवसर हर व्यक्ति के,

बलि का बकरा
बलि का बकरा

एक सरल करील, नई कोंप

उपेक्षित
उपेक्षित

क़दर करो उनकी, जिनक

कहानी घर- घर की
कहानी घर- घर की

बोलना चाहिए पिता, प

दो बात
दो बात

जवानी बेदाग़ गुज़र

सावन
सावन

ली प्यासी धरती ने अ

भोर
भोर

जागे पक्षी, जागे ढो

स्वाभिमान
स्वाभिमान

हम न किसी से कम। बस,

बिसरी डगर
बिसरी डगर

कच्ची मिट्टी, कच्च

आत्म- स्वाभिमान
आत्म- स्वाभिमान

आपसे दूर, चाहे शरीक

जीवन- सच
जीवन- सच

कल का पता न पल का पत

शिक्षा की पहुंच
शिक्षा की पहुंच

जाज्वल्यमान मणि, च

मां का पल्लू
मां का पल्लू

पल्लू से मां, पसीने

भविष्यदर्शी
भविष्यदर्शी

गड्ढा खोदूँगा पर र

ज़िंदगी क्रिकेट
ज़िंदगी क्रिकेट

यह ज़िंदगी, एक क्रि

आधे- अधूरे
आधे- अधूरे

कुछ भी महत्त्व नही

नमस्कार के रूप
नमस्कार के रूप

हर रोज़ करते, करता ह

जीवन- संध्या
जीवन- संध्या

सही- गलत, गर्हित , सह

रोक-टोक
रोक-टोक

ताड़न अक्सीर से, शख

औक़ात
औक़ात

अपनी-अपनी नाप लो, अप

पक्षी
पक्षी

न जीवन- शिकवा, न रोत

शहीद- जोरू
शहीद- जोरू

मन तो मन है, कैसे इस

बचपन की याद
बचपन की याद

हम, स्कूली शहज़ादे

बचपन के दिन
बचपन के दिन

मन के सच्चे, मनमौजी,

सार्थक जीवन
सार्थक जीवन

था कर गुज़रने का जज

समय की करवट
समय की करवट

मैंने, समय को करवट ब

कल की उलझन
कल की उलझन

कल, कल हो क्यों नहीं

ज़माना
ज़माना

ज़माना, तेरी उल्टी

नमस्य
नमस्य

मैं, हर उस शख़्स को,

राजनेता
राजनेता

यह भारत का राजनेता,

नीति
नीति

मनुष्य अपना मित्र

चूहदानी
चूहदानी

फंसाने को, हर जगह है

होली
होली

क्यारी में, फुलवार

बदली
बदली

करे बदली, मैं बरसूं-

हायकू
हायकू

१ चुका उधार पेड़ों

बचपन के खेल
बचपन के खेल

काली-पीली आंधी में,

समझदारी से घाटा
समझदारी से घाटा

दुनिया में, मरण समझ

बहती नदी
बहती नदी

पर्वत से नदी निकलत

विजय
विजय

अगर विजयी बनाना है,

चरित्र
चरित्र

मनुष्य कई गुणों की

दुनिया के रंग
दुनिया के रंग

उल्टी दिशा, उल्टी ब

ग़रीब
ग़रीब

इस मामले में, मैं ग़

पहुंच
पहुंच

चांद तू क्या था, क्य

सुधराई- सफ़र
सुधराई- सफ़र

न ज़रूरत न हसरत, दूस

चुप्पी
चुप्पी

छोड़ छोड़, तू छोड़ चुप्

जीवन उलझन
जीवन उलझन

दिमाग़ ही लगाते रह

नारी शक्ति
नारी शक्ति

नारी, अब तेरी बारी।

पिता
पिता

मज़बूत कंधों पर बि

भागीरथ
भागीरथ

हो कोई भगीरथ, जो गंग

डोर की व्यथा
डोर की व्यथा

कोई नहीं सुनता, दुन

हाइकू
हाइकू

१ बदली हंसी झू

बिटिया
बिटिया

ये प्यारी, नन्ही पर

बेरोज़गारी
बेरोज़गारी

भारत भविष्य का रेल

कर्म की इज़्ज़त
कर्म की इज़्ज़त

क़यामत आए तो आए, पर