संदीप कुमार सिंह

संदीप कुमार सिंह

I am a writer and sociel worker.Poems are most likeble for me.

District_Samastipur,Police Station_Hasanpur, Post Office_Patsa,Village_Deora,PinCode_848205

View Certificate Send Message
  • Followers:
    3
  • Following:
    1
  • Total Articles:
    62

Recent Articles


संतोष ही आनन्द
संतोष ही आनन्द

संतोष ही आनन्द है

संतोष ही आनन्द
संतोष ही आनन्द

ध्यान रखा कर (Take Care)
ध्यान रखा कर (Take Care)

खुद का खुद से ध्यान

चन्दन
चन्दन

चन्दन जहां भुजंग भ

संसार प्यार और स्नेह के लिवास में
संसार प्यार और स्नेह के लिवास में

एक समूह है जो पूरे स

इस दिवाली
इस दिवाली

इस दिवाली प्रण करे

प्यार कि राह
प्यार कि राह

आ मिलकर दामन से दा

जीवन सरल - समझ की एक खजाना का आगमन
जीवन सरल - समझ की एक खजाना का आगमन

समझ की एक खजाना का आ

स्मिता की खातिर सर्वस्व कुर्बान
स्मिता की खातिर सर्वस्व कुर्बान

बल है_बुद्धि है_विद

स्वर कोकिला लता दीदी
स्वर कोकिला लता दीदी

ऐसी परम् आत्मा आप म

मुंबई शहर - सपनों का जीता जागता शहर
मुंबई शहर - सपनों का जीता जागता शहर

मुंबई_मुंबई_मुंबई_

जिन्दगी एक सफर है सुहाना
जिन्दगी एक सफर है सुहाना

मौत का खौफ ना कर, बि

जिन्दगी एक सफर है सुहाना
जिन्दगी एक सफर है सुहाना

मौत का खौफ ना कर, बि

वन्दन - आओ हम सब मिलकर
वन्दन - आओ हम सब मिलकर

आओ हम सब मिलकर, एक श

राही
राही

राही हूं, चलते_चलना

अनमोल
अनमोल

तुम चीज क्या हो? इस

अहवान
अहवान

कई जन्मों का आज संग

संतोष ही आनन्द - लोगों के लिए प्रेरणा से भरपूर मेरी कविता
संतोष ही आनन्द - लोगों के लिए प्रेरणा से भरपूर मेरी कविता

जिन्दगी के सफर में,

चाहे कुछ भी कहे जमाना
चाहे कुछ भी कहे जमाना

ये है मेरा फैसला, क

आरजू की जंग
आरजू की जंग

आरजू की हद हो गई, वि

अगर तुम ना हो
अगर तुम ना हो

अगर तुम ना हो जानेम

जीवन सरल - समझ की एक खजाना का आगमन
जीवन सरल - समझ की एक खजाना का आगमन

समझ की एक खजाना का आ

अगर तुम साथ हो
अगर तुम साथ हो

अगर तुम साथ हो, नही

याचक
याचक

प्रभु के बेहतरीन र

मैं रुकता नहीं - जिन्दगी संघर्ष है
मैं रुकता नहीं - जिन्दगी संघर्ष है

जिन्दगी संघर्ष है,

खुद का खुद से ध्यान रख
खुद का खुद से ध्यान रख

खुद का खुद से ध्यान

ललक - सबों में एक ललक सी थी
ललक - सबों में एक ललक सी थी

सबों में एक ललक सी थ

तूं ने मुझे कायल किया
तूं ने मुझे कायल किया

जब से देखा तुझे जान

खून के रंग
खून के रंग

कई रूप हैं_कई रंग है

बलीदान देश के लिए - नहीं चाहिए हमें कुर्सी,
बलीदान देश के लिए - नहीं चाहिए हमें कुर्सी,

नहीं चाहिए हमें कु

तुम मेरी उम्मीद हो
तुम मेरी उम्मीद हो

तुम मेरी उम्मीद हो,

धनतेरस_धनतेरस
धनतेरस_धनतेरस

आज धनतेरस आई है, सु:

मुश्किल नहीं डगर कोई
मुश्किल नहीं डगर कोई

मुश्किल नहीं डगर क

अक्सर इस दुनिया में
अक्सर इस दुनिया में

अक्सर इस दुनिया मे

प्रकृति_देवी - बहुत ही मनमोहक
प्रकृति_देवी - बहुत ही मनमोहक

बहुत ही मनमोहक बहु

जूल्फ एक घटा
जूल्फ एक घटा

जूल्फ एक घटा है,यह प

खजाना
खजाना

खजाना मेरे ख्वाबों

प्यार झुकता नहीं - किसी भी दीवारों को लाँघकर प्यार परवान चढ़ जाती ही है।
प्यार झुकता नहीं - किसी भी दीवारों को लाँघकर प्यार परवान चढ़ जाती ही है।

प्यार कभी झुकता नह

एकता एक महाशक्ति
एकता एक महाशक्ति

आओ अनेकता में एकता

गुरु ब्रह्मा गुरु विष्णु गुरुरदेवो महेश्वर
गुरु ब्रह्मा गुरु विष्णु गुरुरदेवो महेश्वर

गुरु ब्रह्मा गुरु

एक हसीना
एक हसीना

उल्फत की वह शाम थीं,

जिन्दगी जीने में बड़ा मजा है
जिन्दगी जीने में बड़ा मजा है

जिन्दगी जीने में ब

बस अपने इरादों को तूं देख
बस अपने इरादों को तूं देख

बस अपने इरादों को ह

चुनौती (Challange)
चुनौती (Challange)

बिना चुनौती के तो,

मैं एक याचक हूं
मैं एक याचक हूं

नित्य कोई याचना कर

वो हमारी शान हैं
वो हमारी शान हैं

इस विरासत को छोड़ा

इरादे नेक रख
इरादे नेक रख

बस चाहत का ये मंजर ख

वीर भगत सिंह
वीर भगत सिंह

भारत के लिये तू हुआ

अदाएं - कुछ यूं की मुझे हैरत की
अदाएं - कुछ यूं की मुझे हैरत की

कुछ यूं की मुझे हैर

विश्व हिन्दी दिवस
विश्व हिन्दी दिवस

10जनवरी आज है, आज अति

हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस

हिन्दी हिन्द की ला

बन्धन - बन्धन रिश्तों की है
बन्धन - बन्धन रिश्तों की है

बन्धन रिश्तों की ह

छठ पूजा
छठ पूजा

छत पूजा कार्तिक शु

दूर कहीं एक दिया जल रहा है
दूर कहीं एक दिया जल रहा है

मेरे आश में दूर कही

सैनिक - हमारे देश के शान और अभिमान हैं
सैनिक - हमारे देश के शान और अभिमान हैं

थल सेना_जल सेना_वाय

इच्छा_ शक्ति
इच्छा_ शक्ति

शक्ति जब मिले इच्छ

इच्छा _शक्ति
इच्छा _शक्ति

इच्छा शक्ति 🥀🥀 श

आज (वर्तमान)
आज (वर्तमान)

कल करो सो आज करो, हो

शिक्षा ज्ञान (शिक्षक दिवस)
शिक्षा ज्ञान (शिक्षक दिवस)

मेरे मन_मन्दिर में

जन्म भूमि
जन्म भूमि

जन्म भूमि तुझे बार

पर मैं रुकता नहीं
पर मैं रुकता नहीं

पर मैं रुकता नहीं प

इच्छा शक्ति
इच्छा शक्ति

शक्ति जब मिले इच्छ

विराह और प्यार
विराह और प्यार

उसके जाने के बाद, ख

चेहरा
चेहरा

नहीं बोलो फिर भी हक

चन्दन - चन्दन जहां भुजंग भी लिपटा रहता है
चन्दन - चन्दन जहां भुजंग भी लिपटा रहता है

चन्दन जहां भुजंग भ

दिल के सागर में डूब जाने दे
दिल के सागर में डूब जाने दे

दिल के सागर में डूब

धूप और मेघ की लड़ाई
धूप और मेघ की लड़ाई

एक बार मेघ आ रही है,

दर्दे जुदाई का - लोग बरसों जुदा हो के जीते हैं
दर्दे जुदाई का - लोग बरसों जुदा हो के जीते हैं

लोग बरसों जुदा हो क