नवीनतम समाजिक रचनाएँ

मैं समय हूँ
Anany shukla
मैं समय हूंँ। मैं हूं सबके पास, पर किसी का भी नहीं हूंँ मैं समय हूंँ। मैं वही हूंँ, जिसने राजा को बनवास दिला डाला मै
87001
Date:
06-10-2022
Time:
07:03
बेटी के विदाई के बाद
Kirti singh
जग लड़की की विदाई हो जाती है तब एक वक्त ऐसा भी आता है कि उसके घर का गेट दुनिया भर के लिए खुला रहता है लेकिन उसके लिए खु
87015
Date:
06-10-2022
Time:
07:11
कटु सत्य
Kirti singh
जब आप ऊंचाइयों का शिकार चढ़ते हो तब दूर के लोग ताली बजाते हैं और पास के लोग आपके गिरने का प्रार्थना करते हैं और जब आप
87010
Date:
06-10-2022
Time:
07:26
कटु सत्य
Kirti singh
समाज में तो लोग हैसियत देखकर चरित्र प्रमाण पत्र दिया करते हैं अक्सर हैसियत वालों का चरित्र प्रमाण पत्र बिल्कुल सा
87005
Date:
06-10-2022
Time:
07:26
कटु सत्य
Kirti singh
जब हम गरीब होते हैं तो हमारे अंदर लोग लाख बुराइयां गिनाते हैं और जब हम अमीर हो जाते हैं तब लोग गिनती भूल जाते हैं और ह
87007
Date:
06-10-2022
Time:
07:00
वरिष्ठ नागरिक का जीवन
चंद्र प्रकाश
वरिष्ठ नागरिक जीवन गति उदगार बताने, याद दिलाने, , ठहरी जिन्दगी को गति देने आया हूँ II आँखों की लुप्त हुई
87009
Date:
06-10-2022
Time:
07:26
बचपन
Anany shukla
बचपन आज यह सोच रहा कहाँ खो गया आज वो खुद अपने को खोज रहा बस्तो के नीचे दबा हुआ सोने के समय जगा हुआ भाग दौड़ के इस समय म
86982
Date:
06-10-2022
Time:
04:03
कविता (आज बचा कुछ भी नहीं )
Sunil suthar
कविता (आज बचा कुछ भी नही) थोङे ख्वाब ,थोङी हकीकत, थोङे सवाल, थोङे जवाब, समझने-समझाने मे गुजर गई उम्र सारी, आज बचा कुछ
6
Date:
06-10-2022
Time:
07:09
कविता (बेरोजगार कि आवाज...)
Sunil suthar
(कविता) बेरोजगार की आवाज .... गांव गली शहरो मे चर्चे आम हो जाए, सत्ता धारी द्वार खोले तो हम तेरे हो जाए, तुम्ही हो भाष
5
Date:
06-10-2022
Time:
04:21
कविता (किताबों का दुर्भाग्य )
Sunil suthar
कविता:-  क़िताबों का दुर्भाग्य.. रुसवा होकर करी बड़ाई ,फिर विरह अग्नि में देह जलायी मीत गया प्रदेश, सहेलिया धुँआ सू
8
Date:
06-10-2022
Time:
06:14
कहाँ हो तुम
Anany shukla
कहाँ हो तुम, कहाँ हो तुम मैने ढूंढा तुम्हें हर कहीं पर कहीं ना मिले तुम कहाँ हो तुम, कहाँ हो तुम किसी ने कहा मंदिरो म
86985
Date:
06-10-2022
Time:
00:34
असली रावण
Dipak Dinesh Pawa
रामायण के रावण ने तो सिर्फ सीता माता को उठाकर ले जाने की गलती की थी ! कभी उसने अपना संयम नही खोया ! फिर भी लोग उसे हर
8
Date:
06-10-2022
Time:
07:27