नवीनतम दुःखद रचनाएँ

उसने हमसे इस कदर मुँह मोड़ा जैसे हमारी ज़िंदगी ख़राब है सो है उसके बिछड़ने के बाद यारो उस पानी के गिलास में शराब है सो है
Ritvik Singh
उसने हमसे इस कदर मुँह मोड़ा जैसे हमारी ज़िंदगी ख़राब है सो है उसके बिछड़ने के बाद यारो उस पानी के गिलास में शराब ह
3
Date:
02-02-2023
Time:
00:01
बेवफा
Raj Ashok singh
वेवफा थे,होठ मगर बातों मे सच को छुपा के, यो , मुहोबत की ,फिर से कहानीयाँ सुनाने लगे । दर्द की ,फिर वही एक शाम हु़़़़़
14
Date:
01-02-2023
Time:
21:03
Pooja Pathak
Pooja Pathak
Hello mai Soniya mai Jaunpur ki rahene wali ho Meri Sadi 2018 main Mumbai main hue Meri Kam age main Sadi ho gae uatni sậmạjh nhi thì Sàdi k 6 mahine tk sb Kuch theak tha uaske baad mujhe apne husband pe shak hone laga fir ladae jhagada chalu hua Roj hota tha uanka bahar afair tha
7
Date:
01-02-2023
Time:
16:32
ए मुहब्बत तूने हमे कभी अजमाया कहा
धर्मपाल सावनेर
सूख गए दरखत तब से हुआ साया काहा कोई मुसाफिर जब से ठहरने आया काहा ।। माना के मिलने आए नही तुमसे हम मगर तुमने भी कभी ह
11
Date:
02-02-2023
Time:
01:47
दिल किसी पे
Ranjana sharma
वैसे तो दिल किसी पे आता नहीं था मेरा आया भी तो उस पे जो कभी था ही नहीं मेरा। धन्यवाद
80356
Date:
01-02-2023
Time:
23:22
जिन्दा हु यही काफी है ।।
धर्मपाल सावनेर
ए खुदा सरासर ये कैसी ना इंसाफी है बेगुनाह को सजा कसूरवॉर को माफी है ।। पल पल नही मरना मुझे जिंदा रहकर उम्र कैद से
16
Date:
01-02-2023
Time:
22:21
ख़ुदकी चाहत मे, खुदके भी ना रहे
Karuna bharti
ख़ुदकी चाहत मे, खुदके भी ना रहे इतनी हद से चाहत की -की,मरहम भी न मिल सके शिकायत क्या करे किसी से, उस लायक भी न रहे घुटन
80341
Date:
31-01-2023
Time:
20:28
वो ख्वाब जैसा था,
Karuna bharti
वो ख्वाब जैसा था, हकीकत बन ना सका जमाने के जालिमो के आगे इक न चली, हमारी कहानी अधूरी ही रेह गया ✍✍💔💔💔💔💔👌🏾👌🏾👌🏾👌🏾
80338
Date:
29-01-2023
Time:
23:51
शिकायत
Neha bansla
की............. मुद्दत_ ए _तोहिम होगी मेरे इश्क की... जिस दिन तुझ बेवफ़ा को, याद न करू और जब निकल जाए अपना सिक्का खोटा तो इस खु
59
Date:
01-02-2023
Time:
22:23
अपना बनकर
Ranjana sharma
अपना बनकर ऐसा लूटा हमें अब किसी अपने को भी अपना कहने की हिम्मत न रही मुझमें। धन्यवाद
80231
Date:
31-01-2023
Time:
20:08
दिल पे
Ranjana sharma
दिल पे जितनी ठेस लगी है उसे गिनने बैठें तो कोई हिसाब नहीं है पर जा हमने भी तुम्हें माफ़ किया क्योंकि तुम भी किसी गै
80221
Date:
31-01-2023
Time:
00:18
जी तो हम आज भी रहे हैं
Ranjana sharma
जी तो हम आज भी रहे हैं पर ऎ जीना भी कोई जीना है जिसमें जिंदा लाश बनकर रह गए हैं। धन्यवाद
80218
Date:
01-02-2023
Time:
17:35