Rupesh Singh Lostom

Rupesh Singh Lostom

Lucknow

View Certificate Send Message
  • Followers:
    3
  • Following:
    1
  • Total Articles:
    135

Recent Articles


भेडीये सियार
भेडीये सियार

शासन आज जैचंद चलता

परछाई
परछाई

वो मेरे साथ साथ होत

और कुछ पल
और कुछ पल

बातों से मन भरता नह

न मैं रोता
न मैं रोता

न तू होती न मैं होत

आना सिर्फ मेरे लिए
आना सिर्फ मेरे लिए

तू जब भी आना सिर्फ

हुनर
हुनर

हुनर बुलंदियों स

कोई धोखा तो नही
कोई धोखा तो नही

तु जीद है मेरी की त

जी में आया
जी में आया

आज जी में आया की जी

रुपया
रुपया

रुपया रुपया बना पै

मैं सैनिक हूँ
मैं सैनिक हूँ

मैं सैनिक हूँ देश क

कालचक्र के चक्र में
कालचक्र के चक्र में

ये बक्त नहीं है रुक

न जाने बो कैसे थे
न जाने बो कैसे थे

न जाने बो कैसे थे क

पराए तो पराए थे
पराए तो पराए थे

पराए तो पराए थे कु

अच्छा मैं दर्पण हूँ
अच्छा मैं दर्पण हूँ

जब भी मैं देखता हूँ

वाकी है
वाकी है

बहुत वाकी है पाने क

ये अटल हिन्दुस्तान रहेगा
ये अटल हिन्दुस्तान रहेगा

कदम से कदम मिला के च

व्यापारी किसान हैं
व्यापारी किसान हैं

रोटियां खिलाने वाल

सियाशी गलियारों में
सियाशी गलियारों में

तमाशा ही तमाशा है

प्रीत
प्रीत

रंग भी तू और नूर भी

बो हाथ बदला हैं
बो हाथ बदला हैं

कौन कहता है की देश

अभागा
अभागा

प्रेम; मुहब्बत; आशि

सखा
सखा

मैं क्या कहु किस से

भिगोने लगा हैं
भिगोने लगा हैं

तू अब साँस बनके सां

हाले दिल
हाले दिल

तस्विर से मन अब भर

विचार
विचार

विचार रेत से दीवा

जज्बात छोड आया हूँ
जज्बात छोड आया हूँ

तु खड़की पे नही फिर

बस रहे मेरे
बस रहे मेरे

था मैं एक चित्र अधू

रोने लगा है
रोने लगा है

कुछ तो बात है मोहब

मुझे चाहिये तू
मुझे चाहिये तू

मुझे चाहिये तू और

ऐसी फूलवाड़ी तू
ऐसी फूलवाड़ी तू

हर रंग के फूल खिले

तरंग
तरंग

तुम उस लहर के जैसी ह

प्रेम ही अपना
प्रेम ही अपना

प्रेम आदर है समान ह

सदा महकाते रहना
सदा महकाते रहना

मोहब्बत के चिंगारी

पिली साड़ी बाली
पिली साड़ी बाली

पिली साड़ी बाली नखर

पहली बार
पहली बार

पहली बार जब मिला म

कठिन मार्ग
कठिन मार्ग

डर मत मज़धार से तू, त

बो प्यास अभी बाकी है
बो प्यास अभी बाकी है

अभी इंतज़ार तेरा बा

मन
मन

तू मो को काहे ढूंढे

राजनीती बही है
राजनीती बही है

कुछ नहीं बदला है गर

दिल मे तुफान सा उठने लगा है
दिल मे तुफान सा उठने लगा है

चित्र बदल रहा या फि

ए ही प्यार है
ए ही प्यार है

ए ही प्यार है चलते &

मैं सरकार हूँ
मैं सरकार हूँ

मैं चित्रकार हूँ क

अभिलाषा
अभिलाषा

अभिलाषा थी एक दिन त

रंग बदलती
रंग बदलती

इस रंग बदलती दुनिय

क्या जानते हो
क्या जानते हो

तुम्हे खुद पर दस्त

मेरे खुदा से
मेरे खुदा से

सुना हैं मोहब्बत क

इतिहास गवाह
इतिहास गवाह

पत्थर को भगबान हो म

ॐ नमो शिवाये ३...
ॐ नमो शिवाये ३...

शम्भू शंकर कैलाश न

थोड़ा तु भी जिद्दी है
थोड़ा तु भी जिद्दी है

ये दीप थोड़ा तु जल थ

बंचित
बंचित

प्रेम; मुहब्बत; आशि

उपद्रव
उपद्रव

उपद्रव करता इंसान

उल्झे है हम उल्झन मे
उल्झे है हम उल्झन मे

उल्झे है हम उल्झन म

ऐ री सुन तो
ऐ री सुन तो

तू मेरी हैं पर मेर

मैं बादल तू पानी सा
मैं बादल तू पानी सा

मैं बादल तू पानी सा

पथ
पथ

पथ पथ है पुकारता श

रखा हैं
रखा हैं

तेरी तस्वीर आँखो म

भ्रमण
भ्रमण

चलो कही दूर चले चा

जिद हैं जिद से की जिद न हारने देंगे
जिद हैं जिद से की जिद न हारने देंगे

जिद हैं जिद से की जि

कमाल कर रही थी
कमाल कर रही थी

वादियो ने छेड़ दिया

कन्फुज
कन्फुज

मैं ता ति था थी रा र

साँस न टूटने देना
साँस न टूटने देना

दीप थोड़ा तु जल थोड़

तू जो होती तो
तू जो होती तो

तू जो होती तो क्या

ग़ुम
ग़ुम

अविश्वास ही अविश्व

गरीबी
गरीबी

पाप है तू स्राप है त

तू किताब होती तो
तू किताब होती तो

तू किताब होती तो प

बातो ही बातो में
बातो ही बातो में

बाते हि बातों में

संगनी
संगनी

दिशाओं को बताती जख

पापा
पापा

पापा स्वनमी ओश के ब

आखेरी पडाव
आखेरी पडाव

रुप बदल जायेंगे रं

मांगता हैं तो आजमा ले
मांगता हैं तो आजमा ले

कहि तू मुझ से नाराज

घर ही पे
घर ही पे

बहुत अच्छे वक्त गु

उसे भूलना चाहता हु
उसे भूलना चाहता हु

उसे भुलाना चाहता ह

कल्पना
कल्पना

कल्पना कल्पना नि

युद्ध सा चल रहा
युद्ध सा चल रहा

युद्ध सा चल रहा हैं

शुभ प्रभात अलवेला
शुभ प्रभात अलवेला

निले निले आश्मान प

ऊचरूनं
ऊचरूनं

ऊचरूनं छुछरून बन्

उलूल जुलूल
उलूल जुलूल

खुजली वाले भैया खू

मेरा खुदा से
मेरा खुदा से

सुना हैं मोहब्बत क

रिस्ते
रिस्ते

रिवाज़ बदलते गए रिस

तु रोज रोज आया कर
तु रोज रोज आया कर

मैं तब भी तेरा ही आश

ये प्रेम रूपी
ये प्रेम रूपी

ये प्रेम रूपी स्वर

माँ जैसी कोई नहीं
माँ जैसी कोई नहीं

माँ जैसी कोई नहीं

अभीष्ट सिद्धि
अभीष्ट सिद्धि

अनुराग प्रेम भक्ति

तरह के रंग
तरह के रंग

तरह तरह के रंग है उस

तु ही तो है
तु ही तो है

तु ही तो है दिशाओं

घडी के सुइयां
घडी के सुइयां

तुझसे मिलने के चाह

तु
तु

दिल से दिल की दुआ कु

खामोश जुवा तेरी
खामोश जुवा तेरी

खामोश तु खामोश जुव

इश्क़बाज़
इश्क़बाज़

इश्क़बाज़ सुना हैं

प्रेम लीला
प्रेम लीला

प्रेम ने प्रेम को

स्नेह
स्नेह

मुझे मोहब्बत सी हो

सारा संसार को
सारा संसार को

स्थिति और परिस्थित

तकदीर
तकदीर

पराए तो पराए थे कु

समय के आतंक
समय के आतंक

चल रहा हुज्जत वक्त

मैं धायल हूँ
मैं धायल हूँ

मै देश बदलना चाहता

मैं और तू (देह )
मैं और तू (देह )

मैं और तू (देह ) बैसे

उम्मीद
उम्मीद

उम्मीद के बादवां न

मूलतत्व
मूलतत्व

काल रूपी सयम से बक

आईना
आईना

आईना सच बोलती है क

दुष्टों पे बार
दुष्टों पे बार

माँ धरती के पुत्र ह

तस्कार
तस्कार

काश जालिम ने एक तस

खामोश
खामोश

खामोश तु खामोश जुव

अर्ध्नेशवर
अर्ध्नेशवर

मैं भी तो आप के जैसा

ढलते देखा है
ढलते देखा है

इस रंग बदलती दुनिय

पागलपन
पागलपन

पागलपन मरने का अब

ख़ामोशी
ख़ामोशी

ऐ शहर अजनबी सा क्यो

सोच
सोच

सोच बचपना जीने नह

हमदम
हमदम

असांभव् को संभव कर

भरम वाला निशाचर
भरम वाला निशाचर

भरम वाला निशाचर डर

इश्क़
इश्क़

इश्क़ भी क्या अजीब ह

माँ
माँ

माँ ईश्वर के सूरत स

कली बनके फूल
कली बनके फूल

काली बनके फूल बाग

कृष्ण अर्जुन
कृष्ण अर्जुन

देश द्रोपदी सी ड़र

पत्नी जी
पत्नी जी

पत्नी जी ने आज बडा ह

मन भरता नहीं
मन भरता नहीं

बातों से मन भरता नह

मैं हम से
मैं हम से

जब तक है दम में दम त

मैं किसान हूँ
मैं किसान हूँ

मैं किसान हूँ मैं

ज़िद्द
ज़िद्द

ज़िद्द कुछ तो ज़िद्द

बचपन के दिन
बचपन के दिन

बचपन के दिन जब हम

माया
माया

माया माया की इस नग

ख्वाब
ख्वाब

ख्वाब जगती आखें क

अगर हमारे पास तुम होते
अगर हमारे पास तुम होते

अगर हमारे पास तुम ह

तू है तो
तू है तो

तू है तो तू है तो द

ख्वाबो में आती है
ख्वाबो में आती है

ख्वाबो में आती है

मौसम
मौसम

मौसम मौसम में सरग

कौन है अपना
कौन है अपना

कौन है अपना कौन है

जीवन मुल्य
जीवन मुल्य

जीवनमुल्य प्रेम क

चलन
चलन

चलन साल बदला सदी बद

एहसास
एहसास

सपने के तरह तू अब टू

पापा मेरे
पापा मेरे

कुछ रंग प्यार के यै

नारी
नारी

नारी हर रंग में रू

औरत
औरत

ईश्वर के दिया हुआ

सफर
सफर

कोई तो नाम दो इस चुप

तेरी इश्क में खोया हूँ
तेरी इश्क में खोया हूँ

तेरी इश्क में खोया

टनकार
टनकार

काल है डरा रहा मौत