नवीनतम राजनितिक रचनाएँ

शासन
YOGESH kiniya
शासन शब्द यूनानी भाषा के शब्द "कुबेरनाओ" से लिया गया है जिसका मतलब परिचालन । अर्थात् किसी देश के प्रशासन और कान
35847
Date:
24-05-2022
Time:
23:28
#हमको नेता अब नवल मिले.....
चिन्ता netam " मन "
# हमको नेता अब नवल मिले ... अकल मिले ना इनका शकल मिले पर जहां देखो इनका दखल मिले ...! नेतागिरी , भाषणबाजी दोगलाई , चा
34991
Date:
24-05-2022
Time:
23:10
बो हाथ बदला हैं
Rupesh Singh Lostom
कौन कहता है की देश बदल रहा हैं मुझे तो लगता हैं समाज बिखर रहा हैं तलबार बही हैं बस धार कम हैं काटने वाला गर्दन भ
33414
Date:
24-05-2022
Time:
22:52
सही चुनाव
राहुल गर्ग
दोस्तो जागो और सुनो नया इतिहास बनाने का । सारे दल के हर पहलू हर भाव को अजमाना है किसने तुमको दिया कितना इसको अब पहचा
32872
Date:
25-05-2022
Time:
00:08
भारत का दुर्भाग्य
Krishan kumar
सफलता तो कभी कभी मेहनत न करने वालो को भी मिल जाता है, यही तो भारत का दुर्भाग्य कहलाता है। 60% लाने वाले सरकारी दफ्तर म
30660
Date:
24-05-2022
Time:
23:27
बड़ी कुर्बानी किसकी
YOGESH kiniya
बड़ी कुर्बानी किसकी इतिहास के पन्नों से वर्तमान के पेपर तक सियासत के गलियारों ने किसान को हमेशा अन्नदाता का दर्
25081
Date:
24-05-2022
Time:
22:43
आरक्षण एज समस्या या सामाजिक समानता
Mohan pathak
आरक्षण व्यवस्था का ऐतिहासिक, आर्थिक, संवैधानिक तथा सामाजिक पक्ष। वर्तमान भारत में आरक्षण व्यवस्था को ले कर आन्द
18311
Date:
24-05-2022
Time:
23:40
युद्ध
YOGESH kiniya
युद्ध शान्ति मात्र दो वर्णों के मेल का एक शब्द नहीं है अपितु हर सभ्यता के शासन को सुशासन प्रदान करने
8431
Date:
25-05-2022
Time:
00:02
दुर्गति को प्राप्त कांग्रेस
virendra kumar dewangan
हालिया संपन्न 5 राज्यों के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की जिस तरह से दुर्गति हुई है, उससे यही लगता है कि देश की प्रम
5331
Date:
24-05-2022
Time:
23:06
दशा
Meenubaliyan
देख तेरे संसार की हालत क्या हो गई भगवान, देश बनाने वाले जागे सो रहा आम इन्सान, 😂😂😂😂😂 जिसको समझा अपना विधाता उसने
4717
Date:
24-05-2022
Time:
23:38
अजब पाकिस्तान की, गजब दास्तान
virendra kumar dewangan
पाकिस्तान में करीब पखवाड़े भर से चले सत्ता-संघर्ष में आखिरकार इमरान खान को अपनी कुर्सी गंवानी पड़ ही गई। वहां जिस तर
3771
Date:
24-05-2022
Time:
23:11
मतदान
Santoshi devi
लोकतंत्र का है उत्थान। 100% जब मतदान।। लोकतंत्र की ठोस नींव। मतदाता अकेला जीव।। वोट अपना है अमूल्य। इससे बढ़ ओर न त
1598
Date:
25-05-2022
Time:
00:19