नवीनतम अन्य रचनाएँ

जिंदगी से तू ना भाग जिंदगी तुझे बुलाती है
Kirti singh
जिंदगी से तू ना भाग जिंदगी तुझे बुलाती है परिस्थितियों मे तू उलझा क्यों परिस्थितियों से भागता है क्यों उठ जाग परिस
87018
Date:
06-10-2022
Time:
06:54
घमंड गुलाब का
Anany shukla
हुई बहस एक दिन फूल और काँटों में फूल ने कहा काँटों से मुझे देखकर लोग मुझे अपने हृदय से लगाते हैं तुझे देखकर लोग तु
86986
Date:
06-10-2022
Time:
05:50
कितना रोना बाक़ी है
आकाश अगम
रो रो के जिये हैं आज तलक और कितना रोना बाक़ी है अच्छे के लिए होता है सब फिर कितना होना बाक़ी है। इस दुनिया में वो नीर
37
Date:
06-10-2022
Time:
06:14
बोलक्कड इंसान
Amit kumar
बोलक्कड इंसान 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐###################### दुनिया बड़ा वेदर्दी है, करती बहुत मनमर्जी है। बात भले वो खुद कहे,
22
Date:
06-10-2022
Time:
05:52
मेरी माँ की संघर्ष की कहाँनी
Pinky Kumar
यह उन दिनों की बात है। में पेदा ही हुई थी मुझेसे पहले मेरे दो बड़े भाई थे मुझसे बड़ा भाई जो पहले नम्बर पर था वो मेरी न
85070
Date:
06-10-2022
Time:
06:50
म्हारी प्यारी खेजङी, ऊनाळै सियाळै तुं रेवै हरी-भरी, काळा हिरण थारै छिंया मे कुचाळा मारै, जद ऊनाळै मे सगळा वृक्ष सूख जावै। पण तुं किंया हरी-भरी रेवै, जेठ री लू मे तुं एकली खङी मुस्करावै, जीव थारी छींया मे बैठ अर जान बचावै ऊनाळै मे पाणी घणी घणी कोसा तांई नी मिळै, पण तुं खेजङी हरी-भरी रेवै। जेठ रै तीखै तावङीयै मे जींवा रै होठां माथै, फेफ्फियाँ आ जावै पण तुं युं खङी मुस्करावै, मारवाङ रा किसान थारी साँगरी ने गणै चावै सुं खावै, थारै लूंख ने खा'र अणूता ऊँठ अरङावै। धन्य धन्य थारी छाँव खेजङी, म्हारी रुपाळी प्यारी खेजङी। मिंमझर, साँगरी और खोखा देवै, थारो हाथ कदी न खाली रेवै। चिङी कमेङी री आश्चर्य दाता है तुं, केर,बोरङी अर किकर री साथी तुं। मारवाङ री शान खेजङी, म्हारी प्यारी रुपाळी खेजङी। - कवि सुनील कुमार नायक
कवि सुनील नायक
म्हारी प्यारी खेजङी, ऊनाळै सियाळै तुं रेवै हरी-भरी, काळा हिरण थारै छिंया मे कुचाळा मारै, जद ऊनाळै मे सगळा वृक्ष सूख
129
Date:
06-10-2022
Time:
04:46
कुछ लफ्ज़
gajala praveen
दिल मे तेरे गद्दारी है... जुबां पे खुदा की जिक्र कारी... औरौ के बारे में तो जान रहा है मुरशिद.. क्या तुझे अपनी भी जानका
83865
Date:
06-10-2022
Time:
05:21
सोच
ओम पंडित
कभी कभी मैं सोचता हु तुम मेरे बारे में क्या सोचते होगे, यही सोचकर अजीब सी बेचैनी होती है , नही नही ये बेचैनी उस तरह की
29355
Date:
06-10-2022
Time:
07:12
भारत
Pinky Kumar
जैसा की हम जानते है। की भारत विश्व भारत में अनेक धर्मों के नाम से जाना जाता है। भारत अपने इतिहास के लिये पूरे विश्वभ
82131
Date:
06-10-2022
Time:
07:10
तहजीब
Ranjana sharma
तहजीब सिखाने वाले खुद तहजीब भूल गए अपना बनाने वाले खुद बेगाना बन गए। धन्यवाद
82094
Date:
06-10-2022
Time:
07:06
दया
Pinky Kumar
दया =) में कहु की दया का दुसरा नाम माँ है। जरूरी नहीं जो महिलायें शादी शुदा हो सिर्फ उनका ही फर्ज हो मात्तर्व दिखाने क
82159
Date:
06-10-2022
Time:
07:11
खेजड़ी
कवि सुनील नायक
राजस्थानी कविता- खेजड़ी म्हारी प्यारी खेजङी, ऊनाळै सियाळै तुं रेवै हरी-भरी, काळा हिरण थारै छिंया मे कुचाळा मारै, ज
79158
Date:
05-10-2022
Time:
23:15