नवीनतम अन्य रचनाएँ

मिडिया
Pinky Kumar
आज में कुछ चुनिंदा मिडिया कर्मियों पर बात करूगी मिडिया काम है निष्पक्ष होकर अपना कार्य करना बिना किसी डर और बिना क
1
Date:
01-02-2023
Time:
23:22
धोखा
Ranjana sharma
धोखा एक बार हो तो कोई माफ़ भी कर दे लेकिन बार बार हो तो कोई चाह के भी माफ़ नहीं कर सकता। धन्यवाद
80411
Date:
01-02-2023
Time:
23:46
नाचीज़
Ranjana sharma
मुझ जैसे नाचीज़ को तुमने इतनी इज्जत से नवाजा है दिल चाहे जितनी बार तुम्हारा शुक्रिया अदा करे तुम्हारी जर्रानवाज
80377
Date:
02-02-2023
Time:
00:57
नवाजिश
Ranjana sharma
मोहब्बत हमने भी किसी से की है तो क्या गुनाह की है ऐ तो ऊपर वाले की नवाजिश है जो ऎ मोहब्बत चीज बनाई है। धन्यवाद
80370
Date:
02-02-2023
Time:
01:44
मोहब्बत
Ranjana sharma
इतनी मोहब्बत न करो तुम यूं हमसे हम ओ परछाई है जो रोशनी के आते ही गायब हो जायेगें। धन्यवाद
80355
Date:
01-02-2023
Time:
22:14
आज पिया मन्ने नाचन दे
शीला
Aaj piya mn nachan de dz wale gane pr mn bn ke potala nachan de dz wale gane pr Aaj mere dewar ki shadi raat ho gi gori aadhi soya shahar jga lane de dz wale gane pr Mn potala nachan de dz wale gaan pr Patli kamar meri kali choti aankh piya meri moti moti Gugut mn hta len de dz wale gane pe
58
Date:
01-02-2023
Time:
13:32
जीने के लिए ही पी रहे है
धर्मपाल सावनेर
मुश्किलों की जिंदगी जी रहे है जख्म खुद के खुद ही सी रहे है कोन कहता है शराब जानलेवा है हम तो जीने के लिए ही पी रहे है
45
Date:
31-01-2023
Time:
20:42
आत्मविश्वास
Rohit
बेशक मैं टूट गया हूं, पर बिखरा नहीं अभी तक। दूंगा बदल मैं वक्त को, मैं उजड़ा नहीं अभी तक हालात ए मुश्किल के सागर
37
Date:
30-01-2023
Time:
05:42
फ़िक्र
Ranjana sharma
फ़िक्र तुम्हें होती होगी मेरी ,आज भी पर आज और कल के फिक्र में फासलें बहुत आ गई कल बेस्वार्थ फिक्र थी आज स्वार्थ छिप
80230
Date:
31-01-2023
Time:
19:38
बदनाम मंजर
Ranjana sharma
बदनाम मंजर - सी थी ए जिंदगी जिसको जितना समझना चाहा उतना ही उलझ के रह गई ए जिंदगी। धन्यवाद
80210
Date:
28-01-2023
Time:
19:16
Alfaj
Surbhi khichi
बेचैन रहते हैं वे लोग जिन्हें हर बात याद रहती है ऐ जिंदगी ताकत है तो बातो को भूलना सीखा हर बात याद करके तो जिंदगी बे
45
Date:
01-02-2023
Time:
06:05
मुझे बनारस से नहीं
Shiwani vishwakarma
"मुझे बनारस से नहीं, वो पान वाली गलियों से जानो, मुझे सुबह के सूर्य अर्ध्य के साथ उगती किरणों से जानो, मुझे बनारस स
80236
Date:
01-02-2023
Time:
15:39