साहित्य लाइव पर अपने सुझाव एवं शिकायत के लिए यहाँ क्लिक करें!

साहित्य लाइव परिवार आपका हार्दिक स्वागत करता है!

सभी कलम प्रेमियों को साहित्य लाइव परिवार की तरफ से प्यार भरा नमस्कार। हर एक रचनाकार का हिंदी साहित्य में अहम् योगदान होता है। इसलिए आपकी कलम को ताकत देने तथा आपके विचारों को दुनिया के कोने-कोने तक पहुँचाने में साहित्य लाइव आपका सहयोग करेगा। आप सब अपना प्यार एवं सहयोग ऐसे ही बनाये रखें। धन्यवाद!

Ashish Ghorela
CEO & Founder

रचियता खाता के बिना आप अपने लेख प्रकाशित नहीं कर सकते हैं। यदि आपका साहित्य लाइव पर अभी तक कोई भी रचियता खाता नहीं है, तो आप निचे दिया गया पपत्र भरें और अपना खाता बनायें।

Register Now

Recent Articles

घासों में बांस
Rambriksh Bahadurpuri ,Ambedkar Nagar
जगत में किसका कितना मोल। क्या मानव पौधा लतिकाएं! खोज रहे विस्तार दिशाएं! भूल चले अपनेपन खुद के, जीवन के सबसे
17747
Date:
01-10-2022
Time:
03:22
मैं और मेरी खामोशी
Ranjana sharma
मैं और मेरी खामोशी अक्सर तन्हाई में बातें करती है भीड़ से डर नहीं लगता दिन के ऊंजाले से डर लगता है ऐसा कहती है।
72677
Date:
05-10-2022
Time:
12:15
वाह रे दुनियां
Ranjana sharma
दूसरों के मरने पर आंसू बहाते हैं और अपने लोगो के मरने के लिए दुआ करते हैं वाह रेे दुनियां देखी तेरी अपनेपन! धन्
66316
Date:
05-10-2022
Time:
16:17
🤞 ज़ीवन एक यात्रा ✍️
Amit Kumar prasad
सपने हो अधुरें लाख भले, हो लाख बाधांऐं बंधों का! नय्नों के स्वप्न से संघर्ष अज़र, है महा ज्ञान ये निबंधों का!!
71374
Date:
05-10-2022
Time:
17:28
दिल मेरा
Ranjana sharma
दिल मेरा बार - बार रोता रहा तन्हा है ये कहता रहा क्यों तुझे मेरी तड़प न दिखाई दी क्यों तुझे मेरी आहट न सुनाई दी।
79145
Date:
05-10-2022
Time:
17:54
दरकार
Vipin Bansal
कविता = ( दरकार ) निष्काम सेवा से नहीं चलता परिवार ! पेट को रोटियों की है दरकार !! खाली ख़ज़ाना नहीं चलती सरकार ! भूखे प
69835
Date:
05-10-2022
Time:
17:55

Popular Articles

Writer by iqrar Ali, मोहब्बत शायरी दिल तोड़
Iqrar Ali (आई क्यों)
इज्जत उधार रख कर मुद्रा नगद ले रहो हो।क्योंकि मुद्रा तो मिल जाती है लेकिन इज्जत नहीं।
254451
Date:
06-10-2022
Time:
05:23
Writer by Iqrar Ali, मोहब्बत शायरी दिल तोड़
Iqrar Ali (आई क्यों)
ज़रूरत के हिसाब से जब लोग याद करने लगे तो समझ जाओ झूठी मोहब्बत का दिखावा कर रहे है।
254451
Date:
06-10-2022
Time:
05:23
Writer by Iqrar Ali, मोहब्बत शायरी दिल तोड़
Iqrar Ali (आई क्यों)
मोहब्बत भले ही फ्री मिल जाती है लोगों को।लेकिन कर्ज तो जिंदगी झंड कर के ही चुकानी पड़ती है।
254451
Date:
06-10-2022
Time:
05:23
Writer by Iqrar Ali, मोहब्बत शायरी दिल तोड़
Iqrar Ali (आई क्यों)
लोग भरोसा नहीं तोड़ते है बल्कि हमे एक नसीहत दे कर छोड़ देते है।अगर तुम से नहीं होगा तो किसी और से होने की उम्मीद भी
254451
Date:
06-10-2022
Time:
05:23
Writer by iqrar Ali, मोहब्बत शायरी दिल तोड़
Iqrar Ali (आई क्यों)
इज्जत और मुद्रा दोनो किसी को दे दो तो लौटाने में बहुत देर कर देती है।
254451
Date:
06-10-2022
Time:
05:23
Writer by Iqrar Ali, मोहब्बत शायरी दिल तोड़
Iqrar Ali (आई क्यों)
चोर बनकर ही मोहब्बत लूटना पड़ेगा,क्योंकि अब अच्छे लोगों को मोहब्बत नही मिलती है।।
254451
Date:
06-10-2022
Time:
05:23

Writers

Contact Us


Our Clients Say!

Eirmod sed ipsum dolor sit rebum labore magna erat. Tempor ut dolore lorem kasd vero ipsum sit eirmod sit. Ipsum diam justo sed rebum vero dolor duo.