जिंदगी - Vipin Bansal

जिंदगी     Vipin Bansal     कविताएँ     अन्य     2021-09-22 11:39:49     #जिंदगी     25694        
जिंदगी

अंदाज ए ज़िंदगी बदल जाऊँगा ! 
रूहों में सबकी उतर जाऊँगा !!

लेखनि में सांसे डाल जाऊँगा ! 
मरकर भी धड़कन छोड़ जाऊँगा !!

कलम ए ज़िंदगी से कह जाऊँगा ! 
गजलों में लौटकर फिर आऊँगा !! 

सब कुछ लुटाकर मैं जाऊँगा !
दिलों में डाका डाल जाऊँगा !!

हँसता हुआ मैं होऊँगा विदा ! 
आँखो में अश्क छोड़ जाऊँगा !!

ज़िंदगी को जीना सिखा जाऊँगा !
मौत को जिंदगी में बदल जाऊँगा !!

मौत कैसे छिनेगी ज़िंदगी हमारी !
मौत को भी जिना सिखा जाऊँगा !! 

दिलों की धड़कन बन जाऊँगा !
अंदाज ए जिंदगी बदल जाऊँगा !! 

विपिन बंसल

Related Articles

सावन
सावन

ली प्यासी धरती ने अंगड़ाई। बरसीले बादल ने दी रूनुमाई। मिली ताल- तलैया को तरुणाई। कोयल, मोर, पपीहा वाणी, समां- छटा सर

ऐ मेरे दिल - ऐ मेरे दिल सुनो सिर्फ़ दिल ही रहो
ऐ मेरे दिल - ऐ मेरे दिल सुनो सिर्फ़ दिल ही रहो

ऐ मेरे दिल सुनो सिर्फ़ दिल ही रहो एक आघात से यूँ कहर मत बनो जो गिरा कर सिखाती नहीं कुछ मुझे एक आघात से वो डगर मत बनो।

"सब टूट गये सब छूट गये सपने सारे छूट गये "
"सब टूट गये सब छूट गये सपने सारे छूट गये "

सब टूट गये सब छूट गये, सपने सारे छूट गये, अपने ही जब बेकरार हुए, सपनो के सारे चक्कर छूट गये । जिन्हें समझा हमने अपना


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group

जिंदगी - Kanhaiya Bharatpur | शायरी | Sahity Live

जिंदगी - Kanhaiya Bharatpur

जिंदगी     Kanhaiya Bharatpur     शायरी     समाजिक     2021-09-22 11:39:49     मजबूरी     25694        
जिंदगी

अगर जिंदगी में कभी भी आगे बड़ना  गई तो पीछे वालो को छोड़ दो 
वरना पछताओगे

Related Articles

उठा हिंदुस्तान
उठा हिंदुस्तान

बिछा था जब लहू माटी में वह भी दिन याद हैं मासूमों की चीखों से गूंजा आज का जलीया बाग़ हैं खोया था जो बंटवारे में

जिन्दगी जीने में बड़ा मजा है
जिन्दगी जीने में बड़ा मजा है

जिन्दगी जीने में बड़ा मजा है, हार कर खोकर, फिर से उसे प्राप्त करने में। निरन्तर दोगुणे उत्साह के साथ आगे बढ़ने में

मैं एक याचक हूं
मैं एक याचक हूं

नित्य कोई याचना करूं नित्य कोई कामना करूं, तो आओ दोस्तों एक नवीण रचना करें । शक्ति और ऊर्जा मिले, रंग मिले_रूप मिले


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group

जिंदगी - फूल गुफरान | शायरी | Sahity Live

जिंदगी - फूल गुफरान

जिंदगी     फूल गुफरान     शायरी     प्यार-महोब्बत     2021-09-22 11:39:49         25694        
जिंदगी

हर पल ये जिंदगी भी कोई खास नही होती 
किसी अजनबी से मिलने की आस नहीं होती
रिस्ते अगर टूटे तो जुड़ जाते है दोबारा
दिल जब भी टूटते है आवाज़ नही होती।




एक दिन बक्त और जज्बात बदल देगे
एक जिंदगी और हालात बदल देगे
लोग हमको भी करेंगे सलाम एक दिन
  ऐ जिंदगी हम तेरी औकात बदल देगे।


Related Articles

किस्मत का मोल
किस्मत का मोल

मुझे आज तक यह नही पता चल पाया है कि तुम्हे पाना मेरे जीवन के कौनसे अच्छे कर्म का मोल हैं क्योंकि तुम मेरे साथ चलने वा

शेर
शेर

तेरे लिए मौहब्बत का रुख मोड़ देते । बेवफा तेरे लिए हम घर छोड़ देगें। पल भर मे लूटकर ले गई अना मेरी तू आ तो सही तेरे लिए

हम आज भी ठहरे
हम आज भी ठहरे

बहुत कुछ कहा उस सिमटे लफ्ज़ ने, जैसे सिलबट्टे आ गई हो सोच पर, धीरे धीरे उम्र ढलती गई, जाने कैसे फिर भी वही बात चलती ह


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group

जिंदगी - फूल गुफरान | शायरी | Sahity Live

जिंदगी - फूल गुफरान

जिंदगी     फूल गुफरान     शायरी     प्यार-महोब्बत     2021-09-22 11:39:49         25694        
जिंदगी

हाथ जिनकी तरफ बढा़ते है 
उम्र भर वो हमकों आज़माते है
करते है हम पर हजारों लाखो सितम 
हम ज़ख्म खाकर भी मुस्कुराते है।


Related Articles

मन मोहक
मन मोहक

मन मोहक तेरा रूप निराला ! मन को सबके मोहने वाला !! ओ छलिये तू छलने वाला ! छल का तेरे जग मतवाला !! मन मोहक तेरा रूप निराला

बंजर करके छोड़ेगा
बंजर करके छोड़ेगा

और कितना बवंडर करके छोड़ेगा वक़्त क्या सब खंण्डहर करके छोड़ेगा हाकिम खुश है अपने फैसलों पर लगता है सब बंजर करके छ

मां बाप से बढ़कर कोई नहीं
मां बाप से बढ़कर कोई नहीं

मां बाप से बढ़कर कोई नहीं, बिखरा घर बिखरी जिंदगी मां बाप के बिना,हर ख्वाहिश अधूरी रह जाती हैं मां बाप के बिना।


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group