उम्मीद मत रखिए - Trishika Srivastava

उम्मीद मत रखिए     Trishika Srivastava     शायरी     समाजिक     2021-09-22 10:17:55     उम्मीद मत रखिए, Sad Shayri, Hindi Sad Shayri     89020     5.0/5 (1)    
उम्मीद मत रखिए

उम्मीद मत रखिए किसी से दिलनवाज़ी की, 
खिदमत अब करते हैं लोग बस दिखावे की।
बड़े अदब से पेश आते हैं  दौलत वालों से, 
इज़्ज़त नहीं करते अब लोग उम्रदराज़ो की।

— त्रिशिका श्रीवास्तव ‘धरा’
कानपुर (उत्तर प्रदेश)

Related Articles

Main aur mera pyar
Main aur mera pyar

Rishki aur c.v.p dono hi ajnbi hai na rishki c.v.p ko janti hai aur na c.v.p rishki ko janta hai fir end dono ki mulakt face book ke jariye hoti hai rishki aur c.v.p dono a dusre ko janne lagte hai fir dono ke bich gahri dosti ho jati hai aur yah krm lagbhag a One year take chalta rhta hai fir a di

जैसी करनी वैसी भरनी
जैसी करनी वैसी भरनी

किसी को रुला कर भला कैसे खुश रह पाओगे हकीकत यही है जैसा बोओगे वैसा ही पाओगे

मैं हूं थोड़ी अजीब सी
मैं हूं थोड़ी अजीब सी

●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●● •••• *मैं हूँ थोड़ी अजीब सी* •••• ★ मै बादलों से डरती हूँ, बरसात पर म


Please login your account to post comment here!
Ashish Ghorela     rated 5     on 2021-08-23 19:02:41
 nice

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group