रिश्ते - Ranjana sharma

रिश्ते     Ranjana sharma     शायरी     समाजिक     2022-10-06 06:54:16     Google     72452           

रिश्ते

जिस रिश्ते में प्यार और विश्वास की जगह

नफरत और बद्दुआ अपनी जगह बना ले
उस रिश्ते से दूर हो जाना ही अच्छा है।
             धन्यवाद

Related Articles

आपके
Ranjana sharma
आपके नजर में मेरी उपस्थिति का कोई मोल नहीं हम न रहेंगे इस जहां में, तो आपके हाथ में पछतावा के अलावा कुछ नहीं।
57722
Date:
06-10-2022
Time:
04:04
बलि का बकरा
Santosh kumar koli
एक सरल करील, नई कोंपल नई शान। चढ़ी जवानी गदरा रहा, चंचरीक करे रसपान। मंडराने, गहराने से, मन बहुत ललचाया। मेरी ज़रूर
6010
Date:
06-10-2022
Time:
06:59
Tere gum mai hum pagal ho gye
Chanchal chauhan
Tere gum mai hum pagal ho gye,koi khabr na rahti h apni ,khud se itne begane ho gye.
24943
Date:
06-10-2022
Time:
06:53
Please login your account to post comment here!