इश्क़ के नाव मे - ADARSHPANDEY

इश्क़ के नाव मे     ADARSHPANDEY     शायरी     प्यार-महोब्बत     2022-05-24 22:23:40     #writeradarshpandey #shayri #bestshayri #writeradarshpandeykishayri #googleshyari     2695           

इश्क़ के नाव मे

जो उलजत है तुम्हे इश्क़ के सफीना में बैठने का।
लगता है मर्ज़ फ़ैल चूका है इश्क़ के सफीना में डूबने का।

लेखक आदर्श पाण्डेय

Related Articles

अगर हाथों में आई तेरी नाकामी
Rakhi sharan
अगर हाथों में आई तेरी नाकामी तो यह मत समझ तू काबिल नहीं ये तेरे सब्र की इम्तहान है समझ, मंजिल पाना है तुझे प्रयत्न क
15738
Date:
25-05-2022
Time:
00:27
मन की व्यथा (माता-पिता की मन के बेदना पर लिखी कविता)
Rambriksh, Ambedkar Nagar
छुपाता रहूं कब तलक मन की पीड़ा सुलगते सुलगते जलाता है तन को | समझा था जीवन की ज्योति सा बनकर, बनेगा
3833
Date:
24-05-2022
Time:
23:30
बड़े नादां हो सनम
Kishor Kumar Bhardwaj
बड़े नादां हो सनम, माहताब मांगते हो // अंधे की आंखों से, इक खा़ब मांगते हो // फुलों के शहरों से, खुशबु बेच आने पर // तुम त
2114
Date:
24-05-2022
Time:
23:13
Please login your account to post comment here!