# दिल्ली होगा कब्जे में ...... - चिन्ता netam " मन "

# दिल्ली होगा कब्जे में ......     चिन्ता netam " मन "     कविताएँ     राजनितिक     2022-07-03 17:32:02         50933           

# दिल्ली होगा कब्जे में ......

# दिल्ली होगा कब्जे में.....

इधर-उधर सिर हिलाते
बड़ी अदा से हाथ मटकाते ,
करते दो टके की नेतागिरी 
देते हैं झूठे आश्वासन ........!
         
              ***
लायची दबाए मुंह बिचकाते ,
गप्पेँ भरे जुमलेबाजी
लंबे- लंबे फेंके ये ,
लिखा कोरा भाषण .........!

              ***
बेवकूफ बनाना 
फितरत इनकी ,
इन्होंने किया सिर्फ ,
देश का शोषण ...!

              ***
महंगाई ,अराजकता ,
चारों ओर फैलता 
हो रहा अब तो ,
सेना का राजनीतिकरण ...!

              ***
बहुत हो चुका इनकी गोटी ,
सेंके इन्होंने अपनी रोटी
बंद कर दो इनके दरवाजे ,
जिसने देखें अपने फायदे ....!

              ***
देश के युवाओं को ,
बंद करो गुमराह करना
एक ना एक दिन ,
आफत आ जायेगी वरना ...!
               
              ***
जोश से भरे नौजवानों,
मेरे देश के कर्णधारों
देश , काल , परिस्थिति को ,
अब तो तुम विचारों ...!

              ***
जिस दिन तुम युवा ,
पूरी शक्ति से
आ गए भर हुंकार 
अपने जज्बे में ...! 

              ***
नेता छोड़ेंगे राजधानी
रहेंगे सब सदमें में
तब सारा दिल्ली होगा ,
तुम्हारें कब्जे में .....!

चिन्ता नेताम " मन "
नगर पंचायत डोंगरगांव
राजनांदगांव ( छत्तीसगढ़ )

Related Articles

पिता
Swami Ganganiya
एक पिता अपनी औलाद के लिए जिन्दगी भर कितना संघर्ष करता है कि वो दुनिया की सारी खुशिया उसे दे सके| वो अपनी जरूरतों और ख
16923
Date:
03-07-2022
Time:
22:28
सार
Saurabh Shukla
सार चल मुसाफ़िर तुझे दूर जाना है ! रात की गहराइयों में खोकर , ना जाने किस किस सपने को अपना बनाना है । अल्फाजों की रंग
2049
Date:
03-07-2022
Time:
18:35
चाहे कुछ भी कहे जमाना
संदीप कुमार सिंह
ये है मेरा फैसला, क्या है तेरा फैसला? टूटने न देंगें रिश्तों का डोर, चाहे जमाना कुछ भी कहे। जमीं खामोश है, फलक बेजुब
30455
Date:
03-07-2022
Time:
21:30
Please login your account to post comment here!