कुछ भाव - आकाश अगम

कुछ भाव     आकाश अगम     गीत     धार्मिक     2021-09-22 11:25:45     #भजन #bhajan #kuchh bhav sirf dekar #कुछ भाव सिर्फ़ देकर #आकाश अगम #Akash Agam #भक्ति गीत #bhakti     23759        
कुछ भाव

कुछ भाव सिर्फ़ देकर दिल जीत ले तू मेरा
फिर अर्थ धन भला क्यों है सामने बिखेरा।।

जो भक्ति दिल से करते , झोली में पुण्य भरते
दिल से लगा लूँ जा कर मेरा हृदय भी तरसे
डर उनसे मुझको लगता , जिनमें मेरा बसेरा
फिर अर्थ धन भला क्यों है सामने बिखेरा।।

रहता हूँ भक्त बिन जब मैं स्वर्ग में अकेला
मेरे नयन में लगता है आँसुओं का मेला
फिर भी मुझे पराया दिल मानता क्यों तेरा
फिर अर्थ धन भला क्यों है सामने बिखेरा।।

धरती, गगन है मुझसे , मेरा चमन है तुझसे
तेरी है श्वांस मुझसे , मेरा पवन है तुझसे
मेरी सलामती को तू ध्यान रख ले तेरा
फिर अर्थ धन भला क्यों है सामने बिखेरा।।

दे   ज़ोर   कर्म  पर तू , पायगा  मेरा  वर  तू
सच बोलने की ख़ातिर रखना खुले अधर तू
जग जायें भाव तेरे , इस भाव को उकेरा
फिर अर्थ धन भला क्यों है सामने बिखेरा।।

Related Articles

शेर
शेर

जिंदगी है कोई मागा हुआ अखबार नही जाइये और कही यहाँ कोई बाज़ार नही इंतिहा देते हुऐ उम्र बीत गई आधी फिर भी नाकामियो क

विराम चिन्ह का प्रयोग
विराम चिन्ह का प्रयोग

विराम चिन्ह् का प्रयोग आपने अक्सर किसी किताब,कहानी,अखबार,लेख आदि। को पढ़ते समय या लिखते समय विराम चिन्ह को वाक्य

शेर
शेर

उजडे हुऐ चमन की पहचान हो गये हम एक खुशनुमा चेहरे की मुस्कान हो गये हम हम हो गये मेहमान किसी खुशनुमा जिगर के जब से मि


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group