एक तरफा प्यार । - Shakuntala Sharma

एक तरफा प्यार ।     Shakuntala Sharma     शायरी     प्यार-महोब्बत     2021-09-22 10:19:49     # एक तरफा प्यार# इबादत# कदमो की धुल# जनत#     7231        
एक तरफा प्यार ।

में नही जानती कि मेरी तकदीर में खुदा ने तुझे लिखा या नही ।
पर मेरा प्यार मेरे लिये खुदा की इबादत से भी कम नही ॥
जनत की चाह नही मुझे' तेरे कदमो की धुल मेरे लिये जनत से भी कम नही ॥
तू अगर मुझे ना चाहे तो कोई बात नही . तेरा दीदार का क्या थोंडा सा मुझे हक नही।
तेरे शहर में भी चाँद निकलता है। और मेरे शहर में
तन्हा बैठकर यांद तुझे करके जी लेगे।
तू मिले ना मिले इस बात का भी गम नहीं।
""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""
शकुन्तला शमी ।

Related Articles

शिक्षक दिवस पर मुक्तक
शिक्षक दिवस पर मुक्तक

1 जहाँ टपका दुखी आँसू, वहाँ घायल हुआ शिक्षक । जहाँ टूटा सपन कोई, वहाँ पागल हुआ शिक्षक । दुखों की राह में जग को, अकेला छ

क्या जरूरी है
क्या जरूरी है

क्या जरूरी है आज के जमाने में क्या जरूरी है किसकी सुना जाए खुद की या दुनिया वालो की खुद की करू तो दुनियां धिक्कारे

मामू मत बनाओ - मुन्तशिर होकर जुड़ा हूँ छूट टुकड़े कुछ गए
मामू मत बनाओ - मुन्तशिर होकर जुड़ा हूँ छूट टुकड़े कुछ गए

मुन्तशिर होकर जुड़ा हूँ छूट टुकड़े कुछ गए बस उन्हीं के बिन अधूरा ढूँढ़ लाओ दोस्तो।। ये मता'-ए-ग़म न जन्नत में नशीब हो पा


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group