बड़े बुजुर्ग - सरोज कसवां

बड़े बुजुर्ग     सरोज कसवां     शायरी     समाजिक     2022-10-06 05:03:33         45863           

बड़े बुजुर्ग

◉‿◉बड़े बुजुर्ग कहते है ##गरीब व्यक्ति
की हाय ओर ##दोगले व्यक्ति की राय कभी
नहीं लेनी चाहिए◉‿◉

Related Articles

चमड़े तक उधेड़ दिये
मारूफ आलम
जंगल पर राज करने वाले लोग जंगल से खदेड़ दिये तुमने सिर्फ इज्जतें ही नही लूटीं चमड़े तक उधेड़ दिये और इतने पर भी जु
11124
Date:
06-10-2022
Time:
04:42
यादें
Ramu kumar
होकर दूर हम तुमसे तुम्हारा फिक्र करते हैं भरी मेहफिल मे जाकरके तुम्हारा जिक्र करते हैं अपनी हर गजल और गीत में तुम्
16071
Date:
06-10-2022
Time:
05:28
तुम पर विश्वास करती हूं मां
Chanchal chauhan
मैं इस दुनिया पर नहीं तूझ पर विश्वास करती हूं, ये दुनिया भले ही साथ छोड़ दें, तुम हाथ पकड़े रहना मेरा, मैं तूझ पर विश
9982
Date:
06-10-2022
Time:
05:25
Please login your account to post comment here!