Saroj kaswan - सरोज कसवां

Saroj kaswan     सरोज कसवां     शायरी     दुःखद     2022-05-24 22:34:00         242897           

Saroj kaswan

अक्सर जो लोग अंदर से मर जाते है 
वहीं लोग दूसरों को जीना सिखाता है 
               Saroj kaswan

Related Articles

मौसम
भावना उपाध्याय
मौसम का तुम हाल तो देखो, कभी धूप कभी छाव तो देखो। मस्त मौला है अपने में यह, जीना तुम सब इससे सीखो।। इसकी तुम नजाकत द
4594
Date:
24-05-2022
Time:
22:33
व्यथित मन
Rani Devi
व्यथित मन मेरा यह व्यथित मन ढूँढ रहा न जाने किसको कभी लगता है पिंजरे में बंद उस पंछी की तरह न जाने खोए हुए अन
4351
Date:
24-05-2022
Time:
21:53
दुपट्टा में क्या है
Ratan kirtaniya
लड़की :- रूक जा ठहर जा ज़रा हे हसीना तेरी दुपट्टा के नीचे क्या है अरे हम को भी ज़रा दिखाना लड़की :- अरे मेरी दुपट्टा के नीच
3880
Date:
24-05-2022
Time:
23:03
Please login your account to post comment here!