आदमी ने केे कमाया - Sombir Sharma

आदमी ने केे कमाया     Sombir Sharma     शायरी     साहित्य लाइव सूचनाएँ     2021-09-22 11:20:26     आदमी ने केे कमाया     11781        
आदमी ने केे कमाया

State bank of india
नहीं बताता आदमी ने केे कमाया
समसान आली भीड़ बताया कर

Related Articles

मां की महिमा
मां की महिमा

ये संसार तो धोखा हैं,पास तुम्हारे आना हैं,ये पतझड़ जैसा जीवन,पत्ते तुम्हें लगाना हैं,ये बिखरे घर घर आशियाना, तुम्ही

गुरु गरिमा
गुरु गरिमा

आंख मूंद झांकू अन्तर्मन, पाऊं पावन पग अवलंबन, परम पूज्य ईष्ट गुरु जन कर जोड़ करू अभिनंदन चित चरित्र चेतना सृ

मां पीपल की छांव
मां पीपल की छांव

मां शीतल की गंगा है, मां पीपल की छांव है,, मां का दूध बड़ा अनमोल, जिसका यहां ना कोई तोल,, मां की


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group