प्रिय तुम प्यार मेरे - Ajeet

प्रिय तुम प्यार मेरे     Ajeet     शायरी     प्यार-महोब्बत     2022-07-03 16:51:47     प्यार महोब्बत शायरी     36229           

प्रिय तुम प्यार मेरे

पतझड़ की छाँओ मे  
बेठे हम अकेले 
घास के तिनको पर 
औस की बूंदों के  डेरे
प्रिय तुम  प्यार मेरे / 

Related Articles

मेरी विवशता और दयनीयता
Ajay kumar suraj
मैं कल भी बहुत चिंतित और उदास था और आज भी! जब भी मैं हस्तिनापुर के भविष्य के लिए महाराज धृतराष्ट्र को चेतावनी दी या उ
3759
Date:
03-07-2022
Time:
20:23
वो कोई दरवेश या कलंदर है तो मैं क्या करूँ
मारूफ आलम
जितना बाहर उतना अंदर है तो मैं क्या करूँ वो अगर दरिया या समंदर है तो मैं क्या करूँ अपने मिज़ाज का मैं भी अड़ियल फकी
25742
Date:
03-07-2022
Time:
21:59
हिम्मत
प्रदीप मौर्य
सर्दी के दिनों में ,मैं ओस चाहता हूँ, हर नव युवक में, इक नया जोश चाहता हूँ | जो लड़ जाये हर तुफानों से , ऐसा सीना ठोस चाहत
23539
Date:
03-07-2022
Time:
21:37
Please login your account to post comment here!