नवीनतम शायरी

तेरी साँसो से
Swami Ganganiya
तेरी सासों से गुजरू हवा बनके तेरे जहन से उतरू में नशा बनके तुझे जब भी किसी चीज की जरूरत हो मैं आऊ हमेशा तेरी जरूरत ब
80396
Date:
01-02-2023
Time:
23:01
अपनापन
Manisha
अपने कभी छूट ना जाए ये डर तो हमेशा लगा रहता है पर जो सच है वो कभी-कभी झूठा सा लगता है ये कैसी दुनिया है जो कभी समझ में न
1
Date:
31-01-2023
Time:
23:14
जिक्र
Raj Ashok singh
हम,भी काश ,पसंद होते उनकी , योहि कोई बेजार शौक नहीं । चन्द पलो, मे ना उ़डने़ घुँआ बन के रहते जेब मे उनकी ,कोई एक आदत ब
27
Date:
01-02-2023
Time:
23:09
'किस्मत रूठी हैं'...'और वक्त का थोड़ा मारा..हूं' मैं अभी भी 'कोशिश' में हूं...'अभी नहीं हारा..हूं'..!!
रोhit Singh
'किस्मत रूठी हैं'...'और वक्त का थोड़ा मारा..हूं' मैं अभी भी 'कोशिश' में हूं...'अभी नहीं हारा..हूं'..!!
107
Date:
01-02-2023
Time:
23:40
धोखा
Ranjana sharma
धोखा एक बार हो तो कोई माफ़ भी कर दे लेकिन बार बार हो तो कोई चाह के भी माफ़ नहीं कर सकता। धन्यवाद
80411
Date:
01-02-2023
Time:
23:46
नाचीज़
Ranjana sharma
मुझ जैसे नाचीज़ को तुमने इतनी इज्जत से नवाजा है दिल चाहे जितनी बार तुम्हारा शुक्रिया अदा करे तुम्हारी जर्रानवाज
80376
Date:
01-02-2023
Time:
23:39
दिल किसी पे
Ranjana sharma
वैसे तो दिल किसी पे आता नहीं था मेरा आया भी तो उस पे जो कभी था ही नहीं मेरा। धन्यवाद
80356
Date:
01-02-2023
Time:
23:22
नवाजिश
Ranjana sharma
मोहब्बत हमने भी किसी से की है तो क्या गुनाह की है ऐ तो ऊपर वाले की नवाजिश है जो ऎ मोहब्बत चीज बनाई है। धन्यवाद
80369
Date:
01-02-2023
Time:
23:47
मोहब्बत
Ranjana sharma
इतनी मोहब्बत न करो तुम यूं हमसे हम ओ परछाई है जो रोशनी के आते ही गायब हो जायेगें। धन्यवाद
80355
Date:
01-02-2023
Time:
22:14
जिन्दा हु यही काफी है ।।
धर्मपाल सावनेर
ए खुदा सरासर ये कैसी ना इंसाफी है बेगुनाह को सजा कसूरवॉर को माफी है ।। पल पल नही मरना मुझे जिंदा रहकर उम्र कैद से
16
Date:
01-02-2023
Time:
22:21
इस दिल में क्या क्या है
Pagal Sunderpuria
इस दिल में क्या क्या है वो क्यूं जाने..... जिनकी निग़ाह अक्सर जेब पर होती है। ✍️पागल सुन्दरपुरीया 9649617982
15
Date:
31-01-2023
Time:
20:26
वो ख्वाब जैसा था,
Karuna bharti
वो ख्वाब जैसा था, हकीकत बन ना सका जमाने के जालिमो के आगे इक न चली, हमारी कहानी अधूरी ही रेह गया ✍✍💔💔💔💔💔👌🏾👌🏾👌🏾👌🏾
80338
Date:
29-01-2023
Time:
23:51