नवीनतम शायरी

बेशक
Raj Ashok
बेशक खुदर्गज थे ! बहुत वो पर हमें खुद से ओर खुदा ज्यादा माना ! काश ! तब ये सच हमने समझा होता ! तो आज ......
27
Date:
06-10-2022
Time:
05:28
ह्दयगम
Raj Ashok singh
खामोश थे ,शब्द उसके छाई थी! उदासी ,सी पास बैठ थे! हम भी, पर उसे ,पता नहीं ! ये क्या कोई दर्द था , या दिल्लगी तब से हम भी,
87010
Date:
06-10-2022
Time:
04:54
वो
Raj Ashok
वो चलके आई थी, हाँ ,हाँ वो चलके आई थी , पास मेरे ...पर कुछ कह ना सकी हाँ शायद , वो कुछ कह ना क्यो , के मेरी माँ मेरे साथ म
28
Date:
06-10-2022
Time:
05:18
शायरी
Lalit Kumar Yadav
इक शिक्षिका जब मन के अंदर। ज्ञान की वीणा बजाती है। सच कहूं वो हमको रब के पास ले जाती है। अदब के वास्ते वो इल्म की सम
10
Date:
06-10-2022
Time:
02:44
मोहब्बत हमसे
Ranjana sharma
वो मोहब्बत हमसे यूं कर बैठे हमने कुछ कहा ही नहीं वो सब तैयारी कर बैठे। धन्यवाद
84615
Date:
06-10-2022
Time:
04:04
नमी आई
Ranjana sharma
आंखों में नमी आई जब मुझे तेरी याद आई अक्श बहने वाले ही थें पर तेरी बेवफाई याद आई। धन्यवाद
84605
Date:
06-10-2022
Time:
04:04
उनकी सुरमई आँखे.....
Karuna bharti
उनकी सुरमई आँखे, होठो से तो मद्य बरसे कातिल है हर अदा उनकी, जो भी कहूँ मै उनकी तारीफों मे, वो लफ्ज ही शायरी बन जाए ✍✍
84570
Date:
06-10-2022
Time:
00:29
शिक्षक का महत्व
Prince longwal
दोष हवाओ को देने से पहले दिया- बाती भी संभाल लिया करो किसी को कुछ कहने से पहले थोड़ा सोच भी लिया करो शिक्षक का काम है
83913
Date:
06-10-2022
Time:
03:30
मेरे नैनों की प्यास बुझा दे मां
Chanchal chauhan
मेरे नैनों की प्यास बुझा दो मां, अपना सुंदर मुखड़ा दिखा दो मां, हम पर भी कर दो कृपा मां, भक्तों को दर्श दिखा दो मां। ज
83892
Date:
06-10-2022
Time:
04:19
अपने दर्शन देना मां
Chanchal chauhan
अपने दर्शन देना मां, मेरी अंखियों की प्यास बुझाना मां, अपने सुंदर आगमन से, मेरे मन की बगिया महकाना मां। जय मां लक्ष
83897
Date:
06-10-2022
Time:
03:51
कुछ लफ्ज़
gajala praveen
दिल मे तेरे गद्दारी है... जुबां पे खुदा की जिक्र कारी... औरौ के बारे में तो जान रहा है मुरशिद.. क्या तुझे अपनी भी जानका
83865
Date:
06-10-2022
Time:
05:21
Manoj Khan cheers
Manoj Khan cheeta
दोहराता हूं सुनो रक्त से लिखी हुई कुर्बानी, जिसके कारण मिट्टी भी चन्दन है राजस्थानी।आओ भारत का इतिहास जान ने भारत
177
Date:
06-10-2022
Time:
01:30