टीचर व स्टूडेंट(teacher and student) - सूर्यवंशी प्रदीप मौर्य

टीचर व स्टूडेंट(teacher and student)     सूर्यवंशी प्रदीप मौर्य     कविताएँ     हास्य-व्यंग     2021-09-22 10:04:41     सेठ और चूहे     8507        
टीचर व स्टूडेंट(teacher and student)

स्टुडेंट- सर आज सुबह-सुबह मैं घर से बाहर जा रहा था अचानक गिर गया वो भी सुखे में 

टीचर- टीचर ने कहाँ बेटा धरती का गुत्वाकर्षण बल कम होने के कारण आपके पैर में घर्षण नही हो पाया और आप गिर पड़े |

स्टुडेंट - गिरा और बेहोश हो गया|



(सूर्यवंशी प्रदीप मौर्य)

Related Articles

मेरी कलम
मेरी कलम

!! कलम में बहुत ताकत होता हैं जनाब हर बुरे चेहरे को कर देता हैं बेनकाब !!

खुदा
खुदा

खुदा ने क्या चीज बनाई इंसान लेकिन इंसान आपस मे में ही मिटने लगे

कुछ कहना
कुछ कहना

अब मैं भी कुछ कहना चाहती हूं अपने अंतर्मन की , अपने भावनाओं की , अपनी उलझनों की , अपनी परेशानियों को , अपनी दुविधा को ,


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group