शीर्षक (नज़र) - SACHIN KUMAR SONKER

शीर्षक (नज़र)     SACHIN KUMAR SONKER     कविताएँ     प्यार-महोब्बत     2022-08-14 14:59:10     GOOGLE नज़र     48863           

शीर्षक (नज़र)

शीर्षक (नज़र)
मेरे अल्फ़ाज़ (सचिन कुमार सोनकर)
नज़रों की अपनी एक अलग ही भाषा है।
एक अनकही सी अनसुलझी सी परिभाषा है।
वो हमसे नज़र मिलाने से कतराते है। 
डरते है वो कही हमसे प्यार ना हो,
जाये इसलिए वो अपनी नज़रे हम से चुराते
है।
वो आईना देखने से भी घबराते। 
क्योंकि उनके आइने में भी हम ही नज़र आते
है।  
तूने अपने नज़रो में जो पैमाने है
बनाये।
उन्ही पैमाने को हमने अपने दिल में है
बसाये।
नज़रो की नज़रो से मुलाकात हो गई।
नज़रों ही नज़रों में बात दो लोगो की
बात हो गई।
उनकी नज़रों पर हमे ऐतबार है,
क्योंकि उनकी नज़रों मे ही छिपा उनका
प्यार है।
वो अपनी नज़रों को कब तक हम से छुपायेगी,
कभी तो हमसे नज़र मिलायेगी।
जो हसरते उन्होंने हमसे छिपाई है,
उनकी नज़रों ने वो बात हमे चुपके से
बतायी है।
हाले दिल बया करते है ,
 चलो नज़रों ही नज़रों में बाते करते
है।

Related Articles

कौन सुनता है
DIGVIJAY NATH DUBEY
तेरे बगैर दिल की बातें कौन सुनता है क्या तकलीफ है क्या पीड़ा है इस तकदीर का क्या किस्सा है रात रात भर जग के हरदम
43003
Date:
14-08-2022
Time:
12:05
Writer by Iqrar Ali, मोहब्बत शायरी दिल तोड़
Iqrar Ali (आई क्यों )
दुनियां में अगर मोहब्बत खत्म हो जाए तो दूसरा मोहब्बत का अवार्ड दोस्तों को ही दिया जायेगा।क्योंकि अगर दोस्त कफन
74154
Date:
14-08-2022
Time:
17:14
संवेदना
Santosh kumar koli
चिलचिलाती धूप में लू के थपेड़ों के बीच पसीने से तर -बतर चिथड़ों में लिपटी एक बूढ़ी -सीऔरत अपने दो बच्चों के साथ सड
58485
Date:
14-08-2022
Time:
04:17
Please login your account to post comment here!