प्रेम में डूबी स्त्री - Irfan haaris

प्रेम में डूबी स्त्री     Irfan haaris     कविताएँ     प्यार-महोब्बत     2022-10-06 06:42:07     प्रेम अभी तक     65757           

प्रेम में डूबी स्त्री

प्रेम में डूबी स्त्री
हर प्रकार से
समर्पण कर देती है
स्वयं को
अपने प्रेमी के समक्ष 
प्रेम के अन्तिम पड़ाव पर
देह की नग्नता के
प्रदर्शन से तक 
नहीं लजाती
क्योंकि वो जानती है्
प्रेम की  
अथाह गहराई को
प्रेम देह से परे
आत्माओं का 
आनन्द है

Related Articles

जागो इंसान
प्रदीप मौर्य
जागो इंसान जागो कठिनाइयो से उठकर भागो, मंजिल पास नहीं है दूर बहुत है जाने को, समय बिल्कुल बचा नही है यह अनुमान लगाने
24647
Date:
06-10-2022
Time:
06:26
रंग
Pankaj Kumar Boorakoti
रंगों की अपनी है एक अलग पहचान, करता नहीं कोई इन का अपमान, हर बात किस्सों में आती है इनकी याद, कभी-कभी तो यह बन जाते है
6094
Date:
06-10-2022
Time:
06:56
बता यह शाप कि या वरदान
आकाश अगम
बनेगा तू मेरा भगवान , नज़र में आ जाये सम्मान। प्रेम तेरा हो ज्यों हिमपात नहीं हो तेरी कोई जात नहीं तू कर मुझसे ही ब
81507
Date:
06-10-2022
Time:
05:55
Please login your account to post comment here!