पहिए की हंसी - VIJAYPAL

पहिए की हंसी     VIJAYPAL     कविताएँ     हास्य-व्यंग     2021-09-22 10:54:34     हंसी मज़ाक, Funny Poem in Hindi, Mjakiya Kavita     49757        
पहिए की हंसी

पहिए की हंसी 
पहिए तेरी हंसी मैं ना समझ पाया। 
आमोद या परिहास की बताया क्यों नहीं? 
हर रोज अतीव हंसना।
शोभायमान नहीं।। 

पहिया कहता है -
 मैं हंसता नहीं, दूरी को निगलता हूं। 
बने हुए अवरोधों पर लंबा फिसलता हूं।। 
कीचड़ में स्नान, गहरे गर्त डरता हूं।
आ ना जाए नूकिल, प्रार्थना यह करता हूं।। 
पथ पर मृत गिलहरी, दोष यह मानता हूं।
प्राण हरने वाले यमराज को जानता हूं।। 

कवि कहता है -
रे हां,,, 
3500 ई पूर्व सोपोटामिया इतिहास है। 
काठ में जन्म हुआ , यह अजीब बात है।। 
आज लोहे पर चढा रबड़। 
कितना विकास है?।। 
 मानव से तेरा आत्मा जैसा साथ है।। 

पहिया कहता है-
हां,आवश्यकता अविष्कार की जननी जो है।
भले इंसान ने निर्जीव को जान दी है।
शायद उसने, विज्ञान से सीख ली है।।

कवि कहता है-
रे विनम्रता पूर्ण। 
इस आविष्कार को परिणाम है। 
तेरा यह अतीव हंसना।
शोभायमान है,शोभायमान है,,,,,,,,,,,

 कविता का सार-
                       इस  कविता में लेखक को लगता है कि जब वह किसी पहिए को देखता है तो उसे वह हंसता हुआ प्रतीत होता है। इसलिए वह पूछता है कि क्या तुम मेरा मजाक बना कर हंस रहे हो या खुशी से हंस रहे हो तब पहिया कहता है कि मैं हंसता नहीं हूं दूरी को तय करता हूं इस प्रकार वह अपने बारे में बताते हुए लेखक की सोच को बदलता है और लेखक भी उसकी महिमा करते हुए उसके विकास के बारे में बताता है। 

Related Articles

देखकर कठिनाइयां अब दिल मेरा घबराता नहीं
देखकर कठिनाइयां अब दिल मेरा घबराता नहीं

देखकर कठिनाइयां अब दिल मेरा घबराता नहीं कितनी भी कठिन हो जिंदगी का यह सफर उससे अब दिल मेरा डरता नहीं आज ही कर ले कई

ग़र नहीं प्यार करते हो मुझसे तो फिर
ग़र नहीं प्यार करते हो मुझसे तो फिर

ग़र नहीं प्यार करते हो मुझसे तो फिर क्यों न मुझसे कहीं दूर जाते हो तुम।। मेरे हक़ में जो होता तो देता लुटा जो भी तुमक

Kya khu apne dil ka hal
Kya khu apne dil ka hal

Kya khu apne dil ka hal , Tere msg ka intijar rahta h, Teri call se mera dil dhadk jata h.


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group