मुझे तुम रोकते क्यों हो....? - रोhit Singh

मुझे तुम रोकते क्यों हो....?     रोhit Singh     कविताएँ     अन्य     2021-09-22 10:22:28     #रोhitSingh #poetry #painkiller #shayari #quotes #Hindi #motivational     5995     5.0/5 (1)    
मुझे तुम रोकते क्यों हो....?

मुझे  तुम  रोकते  क्यों  हो....?
मुझे  तुम टोकते  क्यों  हो...? 

मैं जिद्दी हूं मंजिल पाने को
देख कर मुझे चौक ते क्यों हो...?

एक आईना सा हूं साफ-साफ में
मेरे बारे में ज़्यादा सोचते क्यों हो...?

उड़ना भी  सीखा है मैंने गगन में
तुम राहों में मेरे गड्ढा खोदते क्यों हो...?

मेरा सूरज भी  चमकेगा एक दिन 
मुझ में इतनी कमियां खोजते क्यों हो...?

उड़ती है तो उड़ने दो अफ़वाह फ़र्क नहीं 
इन शब्दों से इतनी बातें को नोचते क्यों हो...?

तुम मुझे रोकते क्यों हो..तुम मुझे रोकते क्यों हो...?

Related Articles

चांद से भी प्यारा मैया तेरा मुखड़ा लगे
चांद से भी प्यारा मैया तेरा मुखड़ा लगे

चांद से भी प्यारा मैया तेरा मुखड़ा लगे,तेरी बिंदिया पर मैया हीरे जड़े, तेरी चूंदड़ी पर मैया सितारे जड़े।

अल्फ़ाज़-ए-दिल
अल्फ़ाज़-ए-दिल

मैं किसी रोज़ हार जाता हूँ बैठ कर गीत गुनगुनाता हूँ।। कल मेरे पास उसका फ़ोन आया ये मैं बातें फ़क़त बनाता हूँ।। लोग कह

' मां की ममता '
' मां की ममता '

🙏वो मजबुर थी दो रोटी चोरी करने के लिए बच्चो को क्या पता था मां ने पैर खो दिया उनका पेट भरने के लिए 🙏


Please login your account to post comment here!
Mahak     rated 5     on 2021-09-11 16:51:20
 nice

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group