मां पीपल की छांव - Mk rana

मां पीपल की छांव     Mk rana     कविताएँ     बाल-साहित्य     2021-09-26 15:39:31         9474        
मां पीपल की छांव

        मां शीतल की गंगा है,
        मां पीपल की छांव है,,
                   मां का दूध बड़ा अनमोल,
                   जिसका यहां ना कोई तोल,,
        मां की गोद स्वर्ग समान,
        मां की आंचल निर्मल जल समान,,
                   उंगली पकड़कर चलना सिखाए,
                   खुद जग-जग कर वह हमें सुलाए,, 
        भूखी प्यासी मां रह जाती,
         पर हमें भरपेट खिलाती,,
                   मां की कर्ज कोई तोड़ ना पाए,
                   मां की व्याख्या कोई कर ना पाए,,
                    

Related Articles

सच्चाई - ना कुछ लेकर आए हैं, ना कुछ लेकर जाएंगे
सच्चाई - ना कुछ लेकर आए हैं, ना कुछ लेकर जाएंगे

ना कुछ लेकर आए हैं ना कुछ लेकर जाएंगे दुनिया है यह मतलबी अपने ही बत लाएंगे और गुरूर है किस बात का हमें अपने ही दफन आ

चल दिए
चल दिए

रात के भी अंधेरे बुलाते तुम्हें, दिन के भी उजाले बुलाते तुम्हें, तुम कहां चल दिए, चल दिए चल दिए , आंखों की यह बरसात भ

जय महादेव , जय गंगाधर
जय महादेव , जय गंगाधर

जय महादेव जय गंगाधर जय जय जय जय जय शिव संकर रुद्राक्ष हस्त के बंद, शीश निज चन्द्र, कण्ठ लटका विषधर।। नटराज महान नृ


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group