जग को प्रणाम् करू - ADARSHPANDEY

जग को प्रणाम् करू     ADARSHPANDEY     कविताएँ     देश-प्रेम     2022-05-24 22:03:39     #writeradarshpandey #shayri #bestshayri #writeradarshpandeykishayri #googleshyari     2342           

जग को प्रणाम् करू

जग को मै प्रणाम करु
युद्ध को मै विराम करु

सरल स्वभाव से उत्तम जीवन
मानव के संघ साथ जीऊ

शरल शब्द को मै शहद बनाऊ
कठोर शब्द का मै रस बनाऊ

देश द्रोही मानव विद्रोही का
मै तलवार से तिरश्कार करु

देश सुरक्षा हित मे जो खड़े है वीर
उनका मै देवता शा अभिवादन करु

लेखक आदर्श पाण्डेय

Related Articles

राजेश
Rajesh
*अहिल्या * “माँ, कहानी सुनाओ ना |” “अरे...सो जा , बहुत रात हो गई | सबेरे तुझे स्कूल भी जाना है |” “स्कूल ? ओह ! कल
224943
Date:
25-05-2022
Time:
00:13
वो सिन्दूरी शाम
यू.एस.बरी
" "वो सिन्दूरी शाम" ओंस की वो वूंदें तुम्हारी ही तरह लगतीं हैं भींगी-भींगी-सी ... हरश्रृंगार की यह खुशबू
4399
Date:
24-05-2022
Time:
23:39
आंसुओं का रूप
कवि आंसुओं को कहता है- आंसुओं तुम ऐसा ना करो। ह्रदय कांप उठता है।। इन लटकती हुई बूंदों से । चेहरा खराब दिखता है।।
72834
Date:
24-05-2022
Time:
23:52
Please login your account to post comment here!