प्यार का इंताहक - GAJENDRA KUMAR MEENA

प्यार का इंताहक     GAJENDRA KUMAR MEENA     शायरी     प्यार-महोब्बत     2022-08-14 16:39:55     जीवन का इंताहक     13561           

प्यार का इंताहक

कहने वाले तो क्या कहे , हमे तो जिंदगी की
बेइंतहा।
ओ प्यार करने वाले , हमें क्यों रुलाते
हो।हमे तो जिंदगी ने किस मोड़ पर ला
दिया, कुछ भी कहने लायक नही है।

Related Articles

आयुष्मान भारत
Ashok Kumar Kapil
चिकित्सा के अभाव में ना जाए किसी की जान तभी दुनिया यह कहेगी है भारत आयुष्मान सुलभ और सस्ती चिकित्सा पा कर जन जन ब
2752
Date:
14-08-2022
Time:
16:56
//... प्रेम - समीक्षा...//
चिन्ता netam " मन "
//... प्रेम समीक्षा... // पूर्ण हुआ है जब से मेरा , जीवन का पहला चरण बीत गया है बचपन , आ गया है यौवन...! प्रस्फुटित ह
9347
Date:
14-08-2022
Time:
16:01
तेरे आने की आहट
Adesh dev anand
तेरे आने की आहट, हरपल मुझे लगती है तेरे आने की आहट , हरपल मुझे लगती है मेरे दिल में चाहत की, मेरे दिल में चाहत की ,कोई आ
12163
Date:
14-08-2022
Time:
17:30
Please login your account to post comment here!