बचपना - Babu

बचपना     Babu     शायरी     प्यार-महोब्बत     2022-08-14 14:50:36     सक्सेज     6680           

बचपना

सुना है, वो किरदार बदलकर उस जगह पर फिर
जाति है, जरा पता करो उसको मेरी याद आती
है।

Related Articles

गर देख लिया क्या बुरा किया
Amit Kumar prasad
गर लाख कोशिशें हो शिद्दत कि, तब मिलतें हैं दो चार नज़र! चलतें ही रहें कर ध्यान मग्न, मंज़ील के राह कि डगर- डगर!!
5294
Date:
14-08-2022
Time:
17:44
और तुम कितने अच्छे लगते हो
Ajeet
ये रातें तुम्हारा ही ख्याल बढ़ाती हे ख्याल इस तरह बढ़ जाता हे हर मोसम में सिर्फ तुम्हारा ही चेहरा नजर आता हे, और तुम
33315
Date:
14-08-2022
Time:
16:02
गालों की डिम्पल
शिव शंकर(शिवा)
तेरी गालो का डिम्पल कमाल करती है। तिरक्षी नजरें तेरी बस बवाल करती है।। तेरी होठ है गुलाबी रसीली मगर। गले का तिल हर
24075
Date:
14-08-2022
Time:
16:53
Please login your account to post comment here!