Saroj kaswan - सरोज कसवां

Saroj kaswan     सरोज कसवां     कहानियाँ     प्यार-महोब्बत     2021-09-22 11:01:50         107931        
Saroj kaswan

""हाय में सलोनी !! आप अकेले ही जिम करने आते हो 
💐सलोनी ने अपना परिचय देते हुए कहा 
    
""हाय में जगत !! किसी के साथ आने पर एक्सरसाईज कम ओर बाते ज्यादा होती है 
               ""जगत ने कहा 

सलोनी !! 
हा पर ब्रेक के समय में किसी से बात करना अच्छा लगता है  
####ओर ऐसे दोनों की प्रेम कहानी शुरू होती है 
       

Related Articles

हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी

हमारी राष्ट्रभाषा हिंदी एक बार एक शहर में प्रतियोगिता हो रही थी। वही शहर में रहने वाले कुछ लोग इस प्रतियोगिता

सबसे बड़ा धर्म है
सबसे बड़ा धर्म है

सबसे बड़ा धर्म है, किसी को जीवनदान देना, इंसानियत हमें सिखाती है, सब के दुख बांट देना, और कुछ ना कर सको तो, तुम रोते को

मां
मां

मां 👉 मां जीवन का आधार है करुणा से भरा उपकार है दुख दर्द सहन करती है मां अपना हर एक कोर खिलाकर मेरी काया


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group

Saroj kaswan - सरोज कसवां | कहानियाँ | Sahity Live

Saroj kaswan - सरोज कसवां

Saroj kaswan     सरोज कसवां     कहानियाँ     प्यार-महोब्बत     2021-09-22 11:01:50         107931        
Saroj kaswan

""हाय में सलोनी !! आप अकेले ही जिम करने आते हो 
💐सलोनी ने अपना परिचय देते हुए कहा 
    
""हाय में जगत !! किसी के साथ आने पर एक्सरसाईज कम ओर बाते ज्यादा होती है 
               ""जगत ने कहा 

सलोनी !! 
हा पर ब्रेक के समय में किसी से बात करना अच्छा लगता है  
####ओर ऐसे दोनों की प्रेम कहानी शुरू होती है 
       

Related Articles

प्रार्थना - है विनय आपसे मेरी यह श्याम जी
प्रार्थना - है विनय आपसे मेरी यह श्याम जी

है विनय आपसे मेरी यह श्याम जी, प्रभु कृपा करके दर्शन दिखाया करो।। प्रभु दुखों में भी सुख की सी अनुभूति हो, यदि

मस्त हवा का झोका
मस्त हवा का झोका

हवा हूं हवा हू ठंडी हवा हूं बडी मस्त मौला बडी बावली हूं जिधर चाहती हूं उधर घूमती हूं कभी आसमांँ कभी जमी चारों तरफ

अपने आंशु को चुरा लेते हैं
अपने आंशु को चुरा लेते हैं

अपने आंशु को चुरा लेते हैं, होंठों पर मुस्कान देते हैं, बिन मांगे ही हमें खुशियां देते हैं।


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group

सरोज कसवाॅ - सरोज कसवां | कहानियाँ | Sahity Live

सरोज कसवाॅ - सरोज कसवां

सरोज कसवाॅ     सरोज कसवां     कहानियाँ     अन्य     2021-09-22 11:01:50         107931        
सरोज कसवाॅ

गौरी गाय

एक शहर में एक जाने माने शिक्षक अपने परिवार के साथ रहते थे उनके परिवार में उनकी पत्नी का नाम जीकुमारी  था एक कुशल गृहिणी थी जो कई सालों से चार, पाँच साल के बच्चों को योगा सिखाती थी उनकी एक बेटी थी बेटी का नाम मंजू था जो संगीत और कंप्यूटर की पढ़ाई कर रही थी और उनके घर में रोज सुबह एक काका आकर घर का काम करते थे उनका राजेश  नाम था सब उन्हें राजेश  काका कहकर पुकारते थे।

एक दिन जीकुमारी  ने राजेश काका को बुलाकर पूछा कि "काका आपके पहचान में कोई साफ सुथरी लड़की है क्या जो घर में शाकाहारी खाना बनाती हो" राजेश काका बोले "जी मैडम साहब एक विनीता नाम की लड़की है पर वो मिर्चीदार खाना बनाती है उसके ससुर मेरे गांव के ही है"जीकुमारी ने पूछा "काका विनीता की उम्र क्या होगी"

" यहीं कोई 21, 22 साल होगी मैडम साहब विनीता का छ: साल का एक बेटा है जो कक्षा चार में पढ़ता है ।"

इस पर जीकु ने पूछा "पर काका विनीता का पति क्या करता है ?" 

काका बोले "मैडम साहब विनीता के पति का नाम राजु हैं वो सब्जी फलों का ठेला लगता है और अपनी गाय का दूध बेचता हैं"

जीकु ने कहा काका "विनीत को बोल देना कि वह कल से यहां खाना बनाने आने लगे" 

राजेश  काका ने कहा "जी मैडम साहब" 

अगले दिन से विनीता जीकु के घर में खाना पकाने आने लगी पहले दिन वो अपने साथ कलाकन्द मिठाई का एक डिब्बा लाई ।  ने  से पूछा 

"ये मिठाई तुमने बनाई हैं क्या" उसने कहा "हाँ जीजी मेरे पास एक बहुत सुंदर सी गौरी नाम की गाय है मैंने उसीके दूध से ये मिठाई बनाई हैं और बाकी बचे 1 लीटर दूध को सुमित बेच देते हैं दरसल आज ही नई मिठाई की दूकान से हमें 50 डिब्बे कलाकन्द मिठाई का ऑर्डर मिला है अब दूकान के ग्राहकों मिठाई पसंद आ गई तो एक और ऑर्डर पक्का हो जाएगा । अभी एक ही दूकान से ऑर्डर मिलता है ।"

शुरू में वह बहुत मिर्चीदार खाना बनाती थी पर कुछ समय में जीकु के अनुसार कम मिर्ची का खाना बनाने लगी । कुछ ही दिनों में विनीता शीतल के घर की सदस्य बन गई । कभी- कभी विनीता का बेटा मंजू के साथ खेलने आता था अब रोज सुबह खाना बनाने आती और जब तक खाना बनाती तब तक जिकु को पिछले दिन की पूरी दिनचर्या और अपने दिल की सारी बातें बताती। 

एक दिन उसने नमस्ते जीजी के अलावा कुछ भी नहीं कहा और अपना पूरा काम करके चली गई । 

अगले दिन भी यही होता पर जीकुमारी  के पूछने पर विनीता ने बताया

"जीजी कल सुबह मेरी गौरी गाय मर गई और जीजी गांव का एक नियम है कि वहां की किसी बेटी की शादी के बाद विदाई के समय अपने साथ एक गाय ले जाती है और बहू आती है तो अपने साथ एक गाय ले आती है मुझे उसकी बहुत याद आ रही है।"

जिकु ने कहा "अरे ये तो बहुत गलत हुआ"

"हाँ जीजी विनीता अब तुम्हारे दूध और मिठाई के काम का क्या होगा "

"जीजी एक साल पहले मेरी गौरी गाय ने दो बछड़े दिये थे जो अब दो गायें बन गई है"

इसपर जाकु ने कहा तो तुम इतनी दुखी क्यों हो रही हो गौरी गाय ने जाने से पहले तुम्हें अपने जैसी प्यारी दो गायें दी है तुमको तो अब उनका अच्छे से ध्यान रखना चाहिए"

इस पर विनीता ने कहा "जी जीजी आपने सही कहा"

इसके बाद विनीता खुशी-खुशी काम करने लगी । 

कुछ दिनों बाद विनीता ने आकर कहा "जीजी सुमित और मैंने सोच रहे हैं कि हम अपनी खुद की मिठाई की दूकान खोलें"

जिकु ने कहा "बिल्कुल खोलो" विनीता उसके पति सुमित ने अगले महीने ही अपनी खुद की मिठाई की दूकान खोल ली जो कुछ ही समय में शहर की मशहूर दूकान बन गई ।

******

सरोज कसवाॅ

Related Articles

निजात
निजात

तक़लीफ़ ए ज़िंदगी से, निजात लेने आया हूँ ! नासूर ज़ख्मों पे, मरहम लगाने आया हूँ !! मोहब्बतें तुम्हारी, धड़कने बन गई है

कविता, बड़े भाग्य से आये हो जग में।
कविता, बड़े भाग्य से आये हो जग में।

बड़े भाग्य से आये हो जग में। कर लो कुछ तुम अच्छा काम। दिल जीतने का रखो तुम मकसद। एक दिन जग करेगा सम्मान। जग जीतने

बन्धन - बन्धन रिश्तों की है
बन्धन - बन्धन रिश्तों की है

बन्धन रिश्तों की है, बन्धन यारों की है, बन्धन रश्मों की है, बन्धन समाजों की है, बन्धन धर्मों की है। बन्धन तो अति आवश


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group

Saroj kaswan - सरोज कसवां | कविताएँ | Sahity Live

Saroj kaswan - सरोज कसवां

Saroj kaswan     सरोज कसवां     कविताएँ     अन्य     2021-09-22 11:01:50         107931        
Saroj kaswan

""बहू का घर में आगमन होते ही !! 
      "" ससुर जी ने सास के कान में कहा 
ध्यान से देख लो सिर्फ चेहरा बदल कर बेटी घर आई है 💐💐



     💐रिश्ता वही सोच नई 💐
        

Related Articles

चांद से भी प्यारा मैया तेरा मुखड़ा लगे
चांद से भी प्यारा मैया तेरा मुखड़ा लगे

चांद से भी प्यारा मैया तेरा मुखड़ा लगे,तेरी बिंदिया पर मैया हीरे जड़े, तेरी चूंदड़ी पर मैया सितारे जड़े।

शायर से ना पूछो दर्द क्या हैं
शायर से ना पूछो दर्द क्या हैं

शायर से ना पूछो दर्द क्या है लेखक से ना पूछो किताबों में क्या हैं, कवि से ना पूछो प्रकृति क्या है, क्यों निकालते हो

अगर हाथों में आई तेरी नाकामी
अगर हाथों में आई तेरी नाकामी

अगर हाथों में आई तेरी नाकामी तो यह मत समझ तू काबिल नहीं, ये तेरे सब्र की इम्तहान है समझ मंजिल पाना है तुझे प्रयत्न क


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group

Saroj kaswan - सरोज कसवां | शायरी | Sahity Live

Saroj kaswan - सरोज कसवां

Saroj kaswan     सरोज कसवां     शायरी     समाजिक     2021-09-22 11:01:50         107931        
Saroj kaswan

◉‿◉बड़े बुजुर्ग कहते है ##गरीब व्यक्ति की हाय ओर ##दोगले व्यक्ति की राय कभी नहीं लेनी चाहिए◉‿◉

Related Articles

* इल्तिजा *
* इल्तिजा *

* इल्तिजा * मैं जानता हूं कि तुम मुझे, एक दिन हमेशा-हमेशा के लिए, अकेला छोड़ कर चली जाओगी इंतजार कर रहा है तुम्हार

मां बाप के बिना जिंदगी अधूरी हैं
मां बाप के बिना जिंदगी अधूरी हैं

उनकी जिंदगी अधूरी होती हैं, जिनके मां बाप नहीं होते, हर मोड़ पर कमी महसूस होती हैं, जब वो पास नहीं होते।

मां
मां

यह शक्ति है मां की इसे कौन मिटाएगा? यह सीख है उन बच्चों के लिए जो मां का कदर नहीं करना जानते जो कहता है क्या कर दी हो म


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group

Saroj kaswan - सरोज कसवां | शायरी | Sahity Live

Saroj kaswan - सरोज कसवां

Saroj kaswan     सरोज कसवां     शायरी     प्यार-महोब्बत     2021-09-22 11:01:50         107931        
Saroj kaswan

 (◠‿◕)खुदा नवाजे तुझे 
                  मुझसे बेहतर लेकिन 
                                    तू मेरे लिए तरसे

Related Articles

कविता, - वन महोत्सव
कविता, - वन महोत्सव

वन हमारे अमुल्य सम्पदा। जडी़ वुटि औषधि से भरा पड़ा। देश का है प्राकृतिक शोभा। हरा भरा ये बसुंधरा। वन से जीवन का

दोस्ती - मेरे दिल के धड़कन मे बसे हो तुम
दोस्ती - मेरे दिल के धड़कन मे बसे हो तुम

मेरे दिल के धड़कन मे बसे हो तुम । मेरे हर रिश्तो से बढ़कर हो तुम । तेरी दोस्ती का कोई जबाब नहीं मेरे दिल

कलम की ताकत
कलम की ताकत

कलम की ताकत वया कैसे करूं मैं, जो जुवां नहीं बोलती वो कलम बोलता हैं, कैसे कहदू बेजान हैं वो, शब्दों में जान डालता हैं


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group

Saroj kaswan - सरोज कसवां | शायरी | Sahity Live

Saroj kaswan - सरोज कसवां

Saroj kaswan     सरोज कसवां     शायरी     दुःखद     2021-09-22 11:01:50         107931        
Saroj kaswan

अक्सर जो लोग अंदर से मर जाते है 
वहीं लोग दूसरों को जीना सिखाता है 
               Saroj kaswan

Related Articles

Khuda aur mohabbat
Khuda aur mohabbat

TUMHARE BINA MAIN MAR JAUNGA TUM OXYGEN THODI NA HO,2.,,,TERI HAR BAT MANU MAA KI TARAH, TU MERI KHUDA THODI NA HO,2.,,,AUR TERI MOHABBAT KO RAB KA DARJA Q MAIN DOON, MAIN KAFIR THODI NA HOON,2,., MAIN TUMHARE SATH KAFIR Kİ TARAH FEBRUARY MONTH Q MANAUN 2,(RAMZAN THODI NA HAI,) TUM JO SAMJH

कोरोना की विदाई
कोरोना की विदाई

धरा का छीना श्चिंगार हमने अपनी जूबां के स्वाद की खातिर जीव जन्तुओ से छीना जीने का अधिकार हमने धरा को करा लहूलुहा

बलीदान देश के लिए - नहीं चाहिए हमें कुर्सी,
बलीदान देश के लिए - नहीं चाहिए हमें कुर्सी,

नहीं चाहिए हमें कुर्सी, नहीं चाहिए हमें पदवी। नहीं चाहिए हमें वेतन, नहीं चाहिए हमें भत्ता। हम हैं देश के बेटा, देश


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group

Saroj kaswan - सरोज कसवां | महत्वपूर्ण सूचनाएँ | Sahity Live

Saroj kaswan - सरोज कसवां

Saroj kaswan     सरोज कसवां     महत्वपूर्ण सूचनाएँ     समाजिक     2021-09-22 11:01:50         107931        
Saroj kaswan

        रोटी कमाना बड़ी बात नहीं है 
        रोटी परिवार के साथ खाना 
                 ✨  बड़ी बात है ✨

Related Articles

मुझे तुम रोकते क्यों हो....?
मुझे तुम रोकते क्यों हो....?

मुझे तुम रोकते क्यों हो....? मुझे तुम टोकते क्यों हो...? मैं जिद्दी हूं मंजिल पाने को देख कर मुझे चौक ते क्यों हो...?

मस्त हवा का झोका
मस्त हवा का झोका

हवा हूं हवा हू ठंडी हवा हूं बडी मस्त मौला बडी बावली हूं जिधर चाहती हूं उधर घूमती हूं कभी आसमांँ कभी जमी चारों तरफ

बता यह शाप कि या वरदान
बता यह शाप कि या वरदान

बनेगा तू मेरा भगवान , नज़र में आ जाये सम्मान। प्रेम तेरा हो ज्यों हिमपात नहीं हो तेरी कोई जात नहीं तू कर मुझसे ही ब


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group

Saroj kaswan - सरोज कसवां | महत्वपूर्ण सूचनाएँ | Sahity Live

Saroj kaswan - सरोज कसवां

Saroj kaswan     सरोज कसवां     महत्वपूर्ण सूचनाएँ     समाजिक     2021-09-22 11:01:50         107931        
Saroj kaswan

        रोटी कमाना बड़ी बात नहीं है 
        रोटी परिवार के साथ खाना 
                 ✨  बड़ी बात है ✨

Related Articles

Tere gum mai hum pagal ho gye
Tere gum mai hum pagal ho gye

Tere gum mai hum pagal ho gye,koi khabr na rahti h apni ,khud se itne begane ho gye.

एक कविता "प्यार के नाम "
एक कविता "प्यार के नाम "

कितना सुन्दर तुम दिखती हो, कैसे बताऊँ मै तुमको की तुम हमेशा मेरे दिल में रहती हो, तुम्हारी प्यारी आंखों को मे जब छूप

खुदा
खुदा

खुदा ने क्या चीज बनाई इंसान लेकिन इंसान आपस मे में ही मिटने लगे


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group

Saroj kaswan - सरोज कसवां | शायरी | Sahity Live

Saroj kaswan - सरोज कसवां

Saroj kaswan     सरोज कसवां     शायरी     समाजिक     2021-09-22 11:01:50         107931        
Saroj kaswan

        रोटी कमाना बड़ी बात नहीं है 
        रोटी परिवार के साथ खाना 
                 ✨  बड़ी बात है ✨

Related Articles

तलवार बोली न जाने क्या क्या
तलवार बोली न जाने क्या क्या

मैं चमकती धार युक्त तलवार हूँ प्यासी हूँ लहू की जैसा कहा करते सभी मैं नहीं हूँ देखती अपना पराया उच्च है या निम्न म

आशिकी
आशिकी

कलम मेरी हो गई दिवानी कलम से मेरी आशिकी पुरानी दिले दर्दे गम को पीती हो जैसे जख्मों को शब्दों से सिती है ऐसे दिले म

शेर
शेर

चाहतो मे मौहब्बत की तेरी हद से गुज़र गया होता। खुशनसीब होता जो तेरी याद मे मर गया होता। लोग आते सुनकर खबर मेरे जनाज़े


Please login your account to post comment here!

© 2021 | All rights reserved by Sahity Live® | Powered by DishaLive Group