मैं जिन्दगी में लाखों ख्वाहिशें - Swami Ganganiya

मैं जिन्दगी में लाखों ख्वाहिशें     Swami Ganganiya     शायरी     अन्य     2022-08-14 18:50:23     मैं जिन्दगी में लाखों ख्वाहिशें,Hindi shayri     46685           

मैं जिन्दगी में लाखों ख्वाहिशें

मैं जिन्दगी में
लाखों ख्वाहिशें रखता हूँ
पर जो ना मिले 
मैं हमेशा 
उसी की तलाश रखता हूँ
लगता है
सब मिलेगा मुझे एक दिन
इसी झूठी उम्मीद के सहारे
मैं खुद को धोखा दिये जाता हूँ
************************
Swami ganganiya

Related Articles

जन्म भूमि
संदीप कुमार सिंह
जन्म भूमि तुझे बारंबार प्रणाम, जन्म भूमि स्वर्ग से भी बढ़कर होती है। जन्म भूमि जीवन में खुशियां, देती हैं अपार। जन
7569
Date:
14-08-2022
Time:
18:12
नमो नमो शीव हरे हरे 02
Amit Kumar prasad
समर विशोनित सूर्यवंश, भगिरथ के वंश मे जन्म लिए, दशरथ नंदन श्री राम चन्द्र, रघू कूल के रीत के पालक थे!! रावण म
5108
Date:
14-08-2022
Time:
15:01
Writer by iqrar Ali, मोहब्बत शायरी दिल तोड़
Iqrar Ali (आई क्यों )
मैं खुद अपना नही हो पाया तुम् को पाकर क्या उखाड़ लूंगा।
74183
Date:
14-08-2022
Time:
18:49
Please login your account to post comment here!